0

महालक्ष्मी के 108 नाम, देंगे यश, धन, खुशी और सम्मान

रविवार,सितम्बर 26, 2021
0
1
मां संतोषी को प्रिय शुक्रवार के दिन विधि-विधान से पूजन, विधि, कथा सुनने तथा आरती आदि करने से जीवन में लाभदायी परिणाम प्राप्त होते है।
1
2
इस बार पंचांग के अनुसार पितृ पक्ष ( Pitru Paksha 2021 Start Date) 20 सितंबर 2021, सोमवार को भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि से आरंभ होंगे। पितृ पक्ष का समापन 6 अक्टूबर 2021, बुधवार को आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को होगा। ...
2
3
भगवान विष्णु स्वयं भी चौदह रूपों में प्रकट हुए थे, जिससे वे अनंत प्रतीत होने लगे। इसलिए अनंत चतुर्दशी का व्रत भगवान विष्णु को प्रसन्न करने और अनंत फल देने वाला माना गया है।
3
4
भगवान श्रीकृष्ण की प्रेमिका राधा का जिक्र विष्णु, पद्म पुराण और ब्रह्मवैवर्त पुराण में मिलता है। मान्यता और किवदंतियों के आधार राधा के बारे में बहुत कुछ कहा जाता है। आओ जानते हैं कुछ अनसुनी बातें।
4
4
5
भार‍त में विशेष तौर पर मनाया जाने वाला श्री महालक्ष्मी व्रत का प्रारंभ सोमवार, 13 सितंबर 2021 हो रहा है। 16 दिनों तक चलने वाले इस व्रत का समापन मंगलवार, 28 सितंबर 2021 को होगा।
5
6
14 सितंबर को श्रीकृष्ण की प्रियतमा श्री राधा जी की जयंती मनाई जाएगी। शास्त्रों में इस तिथि को श्री राधाजी का प्राकट्य दिवस माना गया है। सनातन धर्म में भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि श्री राधाष्टमी के नाम से प्रसिद्ध है।
6
7
भाद्रपद की चतुर्थी को 10 दिवसीय गणेश उत्सव का प्रारंभ होता जो अनंत चतुर्दशी तक चलता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार 10 सितंबर 2021 से गणपति उत्सव प्रारंभ होगा जो 19 सितंबर तक चलेगा। 10 दिनी उत्सव में गणपतिजी को 10 दिन तक भिन्न-भिन्न प्रकार का ...
7
8
इस साल गणेशोत्सव संभवत: उस प्रकार नहीं मनाया जा सके, जैसे कि हर वर्ष मनाया जाता है। इससे इस उत्सव की महिमा कम नहीं हो जाती। दरअसल, हमें उत्सव के पीछे छिपे भाव को भी समझने की जरूरत है।
8
8
9
किसी भी नए कार्य की शुरुआत से पहले श्री गणेश की पूजा की जाती है। माना जाता है कि उनका आशीर्वाद सभी बाधाओं से मुक्त करता है और विजयी होने का मार्गदर्शन करता है।
9
10
भारत के अधिकांश हिस्सों में भाद्रपद कृष्ण पक्ष की द्वादशी को गोवत्स द्वादशी मनाई जाती है। भारत के प्राचीन ग्रंथ वेदों में भी गाय की महत्ता और उसमें दिव्य शाक्तियां होने का वर्णन मिलता है।
10
11
प्रतिवर्ष जन्माष्टमी के 4 दिन पश्चात यानी भाद्रपद माह में कृष्ण पक्ष की द्वादशी तिथि को बछ बारस का पर्व मनाया जाता है। इस अवसर पर गाय और बछड़े की पूजा की जाती है।
11
12
रक्षाबंधन पर भाई के अलावा भगवान, वाहन, पालतू पशु, द्वार आदि कई जगहों पर राखी को बांधा जाता है। इसके पीछे मान्यता यह है कि हमारी रक्षा के साथ ही सभी की रक्षा हो। आओ जानते हैं कि रक्षा बंधन पर खासतौर पर किन देवताओं को बांधी जाती है राखी।
12
13
हिन्दू धर्म में हर मांगलिक कार्य में तिलक लगाने की परंपरा रही है। ललाट पर तिलक चंदन, कुमकुम, मिट्टी, हल्दी, भस्म आदि कई पदार्थों से लगाया जाता है। तिलक लगाने के कई आध्यात्मिक, मानसिक और दैहिक फायदे हैं। तिलक लगाने के 12 स्थान हैं। सिर, ललाट, कंठ, ...
13
14
रक्षा बंधन का त्योहार हर वर्ष श्रावण माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस बार अग्रेंजी माह के अनुसार यह पर्व 22 अगस्त 2021 रविवार के दिन मनाया जाएगा। आओ जानते हैं रक्षा बंधन से जुड़े रोचक तथ्य।
14
15
मौली को कलाई में बांधने पर कलावा या उप मणिबंध करते हैं। राखी इसी का एक रूप है। कलाई में बांधने के कारण इसे कलावा भी कहते हैं। आओ जानते हैं कि किस तरह राखी भाई बहन की रक्षा करती है।
15
16
आज सावन के आखिरी शुक्रवार को किया जाने याला वरलक्ष्मी व्रत है। यहां पढ़ें माता देवी लक्ष्मी जी की आरती और चमत्कारी मंत्र-
16
17
श्रावण महीने की इस शुक्ल पक्ष की एकादशी को पवित्रा एकादशी भी कहते हैं। धर्मशास्त्रों में इसका नाम पुत्रदा एकादशी भी बताया गया है। इस व्रत कथा को पढ़ने तथा इसके माहात्म्य को सुनने से मनुष्य सब पापों से मुक्त हो जाता है और इस लोक में संतान सुख भोगकर ...
17
18
अगस्त माह में बहुत ही खास 2 एकादशी आ रही है। एक एकादशी जहां सभी पापों का नाश करने में सक्षम है, वहीं दूसरी एकादशी संतान देने वाली मानी गई है।
18
19
प्रदोष व्रत, शिवरात्रि, श्रावण मास, श्रावण सोमवार या प्रति सामान्य सोमवार को इन नामों का स्मरण करने से शिव की कृपा सहज प्राप्त हो जाती है। वैसे तो भगवान शिव के अनेक नाम है। जिसमें से 108 नामों का विशेष महत्व है।
19