रोमांटिक कविता : मैसेज भेजा करो...


सोच-समझकर मैसेज, 
भेजा करो जनाब।
 
भाई भी मेरी आईडी को, 
यूज करता है।
 
पढ़ के गंदी बातें हमें, 
कन्फ्यूज करता है।
 
आईएलयू को वो, 
लव यू समझता है।
 
डांट करके हमको, 
फ्यूज करता है।
 
कोरे लाल के निशान को, 
दिल समझता है।
 
दर्द देकर हमको, 
मिस्यूज करता है।   



और भी पढ़ें :