Hindi Day 30 Quotes : हिन्दी पर जानिए 30 विद्वानों के मत

Hindi Day 30 Quotes
Quotes on Hindi Diwas
1. आप जिस तरह बोलते हैं, बातचीत करते हैं, उसी तरह लिखा भी कीजिए। भाषा बनावटी नहीं होनी चाहिए। - महावीर प्रसाद द्विवेदी


2. आर्यों की सबसे प्राचीन भाषा हिंदी ही है और इसमें तद्भव शब्द सभी भाषाओं से अधिक है। - वीम्स साहब

3. विदेशी भाषा में शिक्षा होने के कारण हमारी बुद्धि भी विदेशी हो गई है। - माधवराव सप्रे

4. हिंदी पर ना मारो ताना, सभा बतावे हिंदी माना। - नूर मुहम्मद

5.
हिंदी किसी के मिटाने से मिट नहीं सकती। - चंद्रबली पांडेय

6. हिंदी भाषा की उन्नति के बिना हमारी उन्नति असंभव है। - गिरधर शर्मा
7. भाषा ही राष्ट्र का जीवन है। - पुरुषोत्तमदास टंडन

8. हिंदी के विरोध का कोई भी आंदोलन राष्ट्र की प्रगति में बाधक है। -सुभाषचंद्र बोस

9. नागरी प्रचार देश उन्नति का द्वार है। - गोपाल लाल खत्री

10. हिंदी जैसी सरल भाषा दूसरी नहीं है। - मौलाना हसरत मोहानी

11. देश तथा जाति का उपकार उसके बालक तभी कर सकते हैं, जब उन्हें उनकी भाषा द्वारा शिक्षा मिली हो। - पं. गिरधर शर्मा
12. मेरा आग्रहपूर्वक कथन है कि अपनी सारी मानसिक शक्ति हिंदी के अध्ययन में लगाएं। - विनोबा भावे

13. हिंदी द्वारा सारे भारत को एक सूत्र में पिरोया जा सकता है। - स्वामी दयानंद

14. हिंदी भारतवर्ष के करोड़ों नर-नारियों के हृदय और मस्तिष्क को खुराक देने वाली भाषा है -हजारीप्रसाद द्विवेदी

15. हिंदी एक जानदार भाषा है। वह जितनी बढ़ेगी देश का उतना ही नाम होगा। -पंडित जवाहरलाल नेहरू
16. भारतीय एकता के लक्ष्य का साधन हिंदी भाषा का प्रचार है। - टी. माधवराव

17. जब से हमने अपनी भाषा का समादर करना छोड़ा तभी से हमारा अपमान और अवनति होने लगी। - (राजा) राधिकारमण प्रसाद सिंह

18. समस्त आर्यावर्त या ठेठ हिंदुस्तान की राष्ट्र तथा शिष्ट भाषा हिंदी या हिन्दुस्तानी है। -सर जार्ज ग्रियर्सन

19. देश को एक सूत्र में बांधे रखने के लिए एक भाषा की आवश्यकता है और वह भाषा है हिंदी। - सेठ गोविंददास
20. हिंदी के पौधे को हिंदू-मुसलमान दोनों ने सींचकर बड़ा किया है। - जहूरबख्श

21. हिंदी भाषा की उन्नति का अर्थ है राष्ट्र और जाति की उन्नति। - रामवृक्ष बेनीपुरी

22. अब हिंदी ही मां भारती हो गई है- वह सबकी आराध्य है, सबकी संपत्ति है। - रविशंकर शुक्ल

23. हिंदी भारतीय संस्कृति की आत्मा है। - कमलापति त्रिपाठी

24. जिस देश को अपनी भाषा और अपने साहित्य के गौरव का अनुभव नहीं है, वह उन्नत नहीं हो सकता। - देशरत्न डॉ. राजेंद्रप्रसाद
25. हिंदी चिरकाल से ऐसी भाषा रही है जिसने मात्र विदेशी होने के कारण किसी शब्द का बहिष्कार नहीं किया। - डॉ. राजेंद्रप्रसाद

26. हमारी नागरी दुनिया की सबसे अधिक वैज्ञानिक लिपि है। - राहुल सांकृत्यायन

27. मैं दुनिया की सब भाषाओं की इज्जत करता हूं, परंतु मेरे देश में हिंदी की इज्जत न हो, यह मैं नहीं सह सकता। - विनोबा भावे

28. हिंदी विश्व की महानतम भाषा है। - राहुल सांकृत्यायन
29. मनुष्य सदा अपनी मातृभाषा में ही विचार करता है। - मुकुंदस्वरूप वर्मा

30.
जब हम अपना जीवन जननी हिंदी, मातृभाषा हिंदी के लिए समर्पण कर दें तब हम हिंदी के प्रेमी कहे जा सकते हैं। - गोविंददास




और भी पढ़ें :