Morning Walk Tips : सीधे नहीं उल्टे चलने से सेहत को होते हैं ये 5 लाभ

अभी तक सभी यहीं जानते हैं कि रोज सुबह वॉक करना जरूरी है। वॉक करना यानी सीधे चलना। लेकिन कभी आपने के फायदे जानने की कोशिश की है। पहले तो आपको भी सुनकर आश्‍चर्य जरूर होगा। लेकिन रिवर्स वॉकिंग यानी उलटे पैर चलना। अगर नहीं जानते हैं तो चलिए आज जान लीजिए।


1. समन्‍वय (कॉर्डिनेशन) - उल्‍टी दिशा में चलने से आपके कॉर्डिनेशन में सुधार होता है। क्‍योंकि आप सामान्‍य से परे काम कर रहे हो। उल्‍टी दिशा में चलने के लिए आपके शरीर को बेहतर कॉर्डिनेशन के लिए उसे विकसित करना होता है। इससे आपका फोकस बेहतर होता है।

2. मांसपेशियां होती है मजबूत - दरअसल, सभी इस तरह से एक्‍सरसाइज नहीं करते हैं कि पैर के पीछे की साइड की मांसपेशियों का इस्‍तेमाल हो सकें। वहीं अगर आप रिवर्स वॉकिंग करते हैं तो इससे पैरों के पीछे की मांसपेशियां मजबूत होगी।

3.घुटनों पर पड़ता है कम दबाव - जब हम सामान्‍य तरह से वॉक करते हैं तो सीधे घुटनों पर जोर पड़ता है। वहीं रिवर्स वॉकिंग के जरिए दर्द में आराम मिलता है। क्‍योंकि रिवर्स वॉकिंग में आपके घुटनों पर नहीं बल्कि पीछे की मांसपेशियों पर असर पड़ता है।
4.पीठ दर्द में आराम - 8 घंटे लगातार कंप्‍यूटर पर बैठकर काम करने से पीठ दर्द होने लगती है। पीठ दर्द हर युवाओं में भी कॉमन हो गई है। इसका कारण है हैमस्ट्रिंग में लचीलेपन की कमी। एक रिसर्च में भी खुलासा हुआ है कि उलटे पैर वॉक करने से कमर दर्द और पीठ दर्द में छुटकारा मिलता है। हर रोज कम से कम 15 मिनट रिवर्स वॉकिंग जरूर करें।

5.वजन कम करने में मददगार - जी, जब आप उल्‍टा चलेंगे, तब आपका वजन पीछे की तरफ घिरेगा। लेकिन आपको उसे बैलेंस करके चलना होगा। जितना बॉडी को कड़क करेंगे। इतनी तेजी से वजन कम करने में मदद मिलगी। तो यह है रिवर्स वॉकिंग के फायदे।





और भी पढ़ें :