0

आज भी है गुरु पूर्णिमा पढ़ें विशेष सामग्री

शनिवार,जुलाई 24, 2021
0
1
शनिवार, 24 जुलाई को गुरु पूर्णिमा मनाई जाएगी। सभी धर्मों में गुरु का अपनी-अपनी तरह से महत्व है। जीवन में हर कार्य किसी न किसी के द्वारा सिखाया जाता है। वह 'गुरु' कहलाता है।
1
2
गुरु पूर्णिमा के पावन अवसर पर प्रस्तुत है संत कबीर के गुरु पर रचे दोहे
2
3
गुरु को परमात्मा से प्रथम पूज्य माना गया है। गुरु के बिना ज्ञान की प्राप्ति नहीं हो सकती। गुरु आशीर्वाद प्राप्ति के लिए अपने जन्म लग्न-अनुसार आराधना कीजिए। पढ़ें 12 लग्न के 12 मंत्र-
3
4
इस वर्ष 23 जुलाई से शुरू होकर 24 जुलाई तक गुरु पूर्णिमा मनाई जाएगी। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार आषाढ़ मास की पूर्णिमा को आषाढ़ी पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा कहा
4
4
5
23 जुलाई 2021 को गुरु पूर्णिमा मनाई जा रही है। जब गुरु पूर्णिमा पर आप अपने गुरुजी का आशीर्वाद लेने जाएं, तब उनका पूजन करके अपनी राशि अनुसार भेंट दें, तो आपको उनका आशीर्वाद निश्चित रूप से फलेगा।
5
6
23 जुलाई को व्रत की पूर्णिमा प्रारंभ होगी और 24 जुलाई को गुरु पूर्णिमा रहेगी। पूर्णिमा के दिन व्यास पूजा होती है अर्थात महाभारत के लेखक वेद व्यासजी की पूजा। इसी दिन से आषाढ़ माह समाप्त हो जाएगा। भगवान वेद व्यास एक अलौकिक शक्तिसंपन्न महापुरुष थे। आओ ...
6
7
महर्षि वेद व्यास के उपदेश और उनके विचार हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। गुरु पूर्णिमा पर्व महर्षि वेद व्यास को प्रथम गुरु मानते हुए उनके सम्मान में मनाया जाता है। मान्यतानुसार आषाढ़ पूर्णिमा को महर्षि वेद व्यास का जन्म हुआ था।
7
8
हिन्दू धर्मानुसार दिशाहीन जीवन को दिशा देना ही दीक्षा है। दीक्षा एक शपथ, एक अनुबंध और एक संकल्प है। दीक्षा के बाद व्यक्ति द्विज बन जाता है। द्विज का अर्थ दूसरा जन्म। दूसरा व्यक्तित्व। दीक्षा देने की यह परंपरा जैन धर्म में भी प्राचीनकाल से रही है। ...
8
8
9
गुरु पूर्णिमा पर्व महर्षि वेद व्यास को प्रथम गुरु मानते हुए उनके सम्मान में मनाया जाता है। महर्षि वेद व्यास ही थे जिन्होंने सनातन धर्म के चारों वेदों की व्याख्या की थी। पौराणिक मान्यता के अनुसार माना जाता है कि आषाढ़ पूर्णिमा को महर्षि वेद व्यास का ...
9
10
जय गुरुदेव अमल अविनाशी, ज्ञानरूप अन्तर के वासी, पग पग पर देते प्रकाश, जैसे किरणें दिनकर कीं।
10
11
धार्मिक धार्मिक शास्त्रों के अनुसार आषाढ़ मास की पूर्णिमा को आषाढ़ी पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा कहा जाता है। इस वर्ष शुक्रवार, 23 जुलाई 2021 को पूर्णिमा तिथि प्रारंभ होगी और शनिवार, 24 जुलाई को गुरु पूर्णिमा मनाई जाएगी। आओ जानते हैं कि आषाढ़ी पूर्णिमा ...
11
12
23 जुलाई को व्रत की पूर्णिमा प्रारंभ होगी और 24 जुलाई को गुरु पूर्णिमा रहेगी। पूर्णिमा के दिन व्यास पूजा होती है अर्थात महाभारत के लेखक वेद व्यासजी की पूजा। इसी दिन से आषाढ़ माह समाप्त हो जाएगा। आओ जानते हैं गुरु पूर्णिमा शुभ मुहूर्त और इस दिन का ...
12
13
धार्मिक धार्मिक शास्त्रों के अनुसार आषाढ़ मास की पूर्णिमा को आषाढ़ी पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा कहा जाता है। इस वर्ष शुक्रवार, 23 जुलाई 2021 को पूर्णिमा तिथि प्रारंभ होगी और शनिवार, 24 जुलाई को गुरु पूर्णिमा मनाई जाएगी। आओ जानते हैं कि आषाढ़ी पूर्णिमा ...
13
14
धार्मिक शास्त्रों के अनुसार आषाढ़ मास की पूर्णिमा को आषाढ़ी पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा कहा जाता है। इस दिन पवित्र नदी में स्नान तथा दान-पुण्य करने का महत्व बताया गया है। इस वर्ष शुक्रवार, 23 जुलाई 2021 को पूर्णिमा तिथि प्रारंभ होगी और शनिवार, 24 जुलाई ...
14
15
गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु पादुका पूजन करें। गुरु दर्शन करें। नेवैद्य, वस्त्रादि भेंट प्रदान कर दक्षिणादि देकर उनकी आरती करें तथा उनके चरणों में बैठकर उनकी कृपा
15
16
आश्रमों में गुरु और शिष्य की प्राचीन भारत में परंपरा रही है जो आज भी जारी है। गुरु और शिष्य की इस परंपरा की हजारों कहानियां वेद, उपनिषद और पुराणों में मिल जाएगी। शास्त्रों में माता पिता के बाद गुरु को ही सबसे बड़ा दर्जा प्राप्त है। आओ जानते हैं गुरु ...
16
17
इस साल गुरु पूर्णिमा पर्व आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा दिन शनिवार, 24 जुलाई 2021 मनाया जा रहा है। इसे व्यास पूजा के नाम से भी जाना जाता है। वैसे तो किसी भी तरह का ज्ञान देने वाला गुरु कहलाता है
17
18
हिन्दू पंचांग के अनुसार आषाढ़ मास की पूर्णिमा को आषाढ़ी और गुरु पूर्णिमा कहा जाता है। इस दिन पवित्र नदी में स्नान तथा दान-पुण्य करने का महत्व बताया गया है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 23 जुलाई 2021 शुक्रवार को पूर्णिमा तिथि प्रारंभ होगी और 24 जुलाई ...
18
19
गुरुपूर्णिमा के पावन अवसर पर प्रस्तुत है संत कबीर के गुरु पर रचे दोहे...
19