अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस : कब और क्यों मनाया जाता है?

International Day Of Peace
इस वर्ष मंगलवार, 2021 को अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस मनाया जा रहा है। इस दिन की शुरुआत 1982 से हुई थी, जिसकी थीम 'Right to peace of people' रखी गई थी। 1982 से लेकर 2001 तक सितंबर माह के तीसरे को अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस या के रूप में मनाया जाता था, लेकिन सन् 2002 से इसके लिए 21 सितंबर की तारीख निर्धारित कर दी गई।

तब से लेकर आज तक हर वर्ष 21 सितंबर के को विश्व शांति दिवस मनाया जाता है। दुनियाभर में शांति का संदेश पहुंचाने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने कला, साहित्य, संगीत, सिनेमा और खेल जगत की प्रसिद्ध हस्तियों को शांतिदूत नियुक्त किया हुआ है।

विश्व शांति दिवस पर सफेद कबूतरों को उड़ाकर शांति का पैगाम दिया जाता है और एक दूसरे से भी शांति कायम रखने की अपेक्षा होती है। को शांति का दूत माना जाता है। इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र से लेकर अलग-अलग संगठनों, स्कूलों और कॉलेजों में शांति दिवस के अवसर पर कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।
जीवन का प्रमुख लक्ष्य शांति और खुशी प्राप्त करना है, जिसके लिए मनुष्य निरंतर कर्मशील तो है लेकिन शांति के लिए प्रयासरत नहीं। पूरा विश्व, समस्त देशों के बीच शांति स्थापित करने के लिए प्रयासरत है।

इसी के तहत 21 सितंबर को हर साल पूरे विश्व में अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस के रूप में मनाया जाता है। मुख्य रूप से विश्व स्तर पर शांति बनाए रखने के लिए इस दिवस को मनाए जाने पर मोहर लगी थी, परंतु कहीं भी शांति के हालात नजर नहीं आते।
भारत में विश्व शांति हेतु पंडित जवाहर लाल नेहरू द्वारा पांच मूल सिद्धांत दिए गए थे, जिन्हें पंचशील के सिद्धांत कहा गया। यह पांच सिद्धांत इस प्रकार हैं-


1. एक दूसरे की प्रादेशिक अखंडता और प्रभुसत्ता का सम्मान करना।
2. एक दूसरे के विरूद्ध आक्रमक कार्यवाही न करना।
3. एक दूसरे के आंतरिक विषयों में हस्तक्षेप न करना।
4. समानता और परस्पर लाभ की नीति का पालन करना।
5. शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व की नीति में विश्वास रखना।

इन पांच बिंदुओं का अमल कर पूरे विश्व में शांति कायम रखी जा सकती है।

अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस की थीम 2021- इस बार संयुक्त राष्ट्र महासभा ने अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस को 24 घंटे अहिंसा और संघर्ष विराम के माध्यम से शांति के आदर्शों को मजबूत करने के लिए समर्पित दिन के रूप में घोषित किया है। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार अब हम कोरोना महामारी से धीरे-धीरे बाहर आ रहे हैं, ऐसे में सभी देशों को एक होकर रचनात्मक और सामूहिक रूप से सोचना चाहिए। सभी देशों को यह सोचना चाहिए कि कैसे सभी को बेहतर तरीके से ठीक किया जाए और सभी लोगों को जीने का एक समान अवसर मिले। इन्ही बातों को ध्यान में रखते हुए संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वर्ष 2021 के अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस की थीम 'Recovering Better for an Equitable and Sustainable World' रखी है।



और भी पढ़ें :