उपवास की अंतिम संध्या पर भाषण

विरोध के रूप में मेरा उपवास (12-01-1948)

NDND
सेहत की रक्षा के लिस्वास्थ्य के नियमों के अनुसार यह उपवास है, उपवास अगर शरीर को कष्ट देने के लिए किया गया हो तो वह गलत है और बीमार पड़ना स्वाभाविक है। इस तरह के उपवासों में एक चीज की आवश्यकता होती है अहिंसा पर विश्वास मत करो। यहाँ किस प्रकार उपवास, जो अहिंसा का समर्थक है कभी-कभी लगता है कि समाज में हो रहे अन्याय को रोकने का एक तरीका है, और जो उन्होंने अहिंसा के समर्थन के रूप में किया है, इसके अलावा कोई और उपचार नहीं बचा था। इस तरह के आयोजन मेरे द्वारा लाए गए हैं।

जब 9 सितंबर को मैं कलकत्ता से दिल्ली वापस लौटा तो वह पश्चिमी पंजाब की ओर जाने के लिए। लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। खुशहाल दिल्ली मौत का शहर नजर आ रहा थी। जैसे ही मैंने ट्रेन से बाहर देखा मैंने महसूस किया कि हरेक चेहरे पर एक चमक थी। यहाँ तक कि सरदार, जिनका सम्मान और उस सम्मान को दिए जाने की खुशी कभी भी मरुस्थल नहीं हुई, इस समय यह कोई अपवाद नहीं है। इसकी वजह मैं नहीं जानता हूँ। वो प्लेटफॉर्म पर मुझे लेने के लिए आए थे। उन्होंने बिना एक पल गवाए राजधानी की इकाई में हुई गड़बडि़यों के बारे में बुरी खबर मुझे दी।
सेहत की रक्षा के लिए स्वास्थ्य के नियमों के अनुसार यह उपवास है, उपवास अगर शरीर को कष्ट देने के लिए किया गया हो तो वह गलत है और बीमार पड़ना स्वाभाविक है। इस तरह के उपवासों में एक चीज की आवश्यकता होती है अहिंसा पर विश्वास मत करो।


एक पल को मैंने देखा कि मैं दिल्ली में और ‘करो या मर’ के लिए हूँ। मेरे सैनिक और पुलिस प्रकिया पर काफी सख्ती से गलत आरोप प्रस्तुत किया गए। लेकिन सीने में एक तूफान उठ रहा था। वह कभी भी फट सकता था। इसे मैंने अपनी प्रतिज्ञा के पूरा ना होने के रूप में गिना, जोकि अकेले मुझे मृत्यु से दूर रख सकता था। मैंने हिंदुओं, सिक्खों और मुसलमानों के बीच दिल से मित्रता पाई है। अगले दिन उनके बीच यह मौजूद थी। आज यह अस्त्तिव में नहीं है। यद्यपि यह आवाज लंबे समय तक गूँजेंगी, इसके लिए मैं अपने कान बंद कर लूँगा, कम-से-कम वह आवाज सत्य की होनी चाहिए, वरना यह मेरी कमजोरी मानी जाएगी।

मैं कभी भी संदर्भरहित महसूस नहीं करना चाहता, एक सत्याग्रही को यह कभी नहीं करना चाहिए। उनके या किसी और के लिए उपवास म्यान का आखिरी तलवार है। मुस्लिम मित्रों की ओर लौटने के लिए मेरे पास कोई उत्तर नहीं है, जिन्होंने मुझे शुरुआत से अब तक देखा है जैसा वे करना चाहते थे। मेरा महत्व का नाश बहुत देर से हुआ है। उपवास के दौरान यह तेजी से होगा।

मैं पिछले तीन सालों से इस पर विचार कर रहा हूँ। अंतिम निष्कर्ष मेरे दिमाग में कौंधा और उसने मुझे खुशी दी। कोई भी व्यक्ति जो सच्चा है उसके लिए जीवन से बढ़कर देने के लिए कुछ और नहीं होता है। मैं आशा करता हूँ और प्रार्थना करता हूँ कि मेरे अंदर मौजूद शुद्धता मेरे इस कदम के लिए न्याय करेगी।
WD|
- महात्मगाँध



और भी पढ़ें :