0

पर्यावरण के पंचतथ्य

शनिवार,जून 4, 2022
envorment day poster
0
1
Importance of water: 5 जून को पर्यावरण दिवस है। धरती सहित संपूर्ण ब्रह्मांड पांच तत्वों से मिलकर बना है। ये पांच तत्व है- आकाश, वायु, अग्नि, जल और धरती। इसमें जल तत्व का महत्व खास है क्योंकि धरती पर 70 प्रतिशत समुद्र का विस्तार है, लेकिन उसका पानी ...
1
2
5 June World Environment Day: 5 जून को पर्यावरण दिवस है। धरती के पर्यावरण को बचाना है तो आकाश का साफ-सुथरा होना भी जरूरी है। सिर्फ यही सिर्फ यही नहीं आकाश कई कारणों से इस वक्त बड़ी मुश्किल में है। आओ जानते हैं गगन का दर्द।
2
3
5 June World Environment Day Prithvi tatva: मनुष्‍यों के रहने के लिए वर्तमान में एक ही जगह है और वह है धरती। उसमें भी सभी जगह मनुष्य नहीं रह सकता। मनुष्य की खतरनाक गतिविधियों के चलते धरती की सहनशक्ति अब लगभग समाप्ति की कगार पर है। इसके कई कारण है।
3
4
5 June World Environment Day Agni tatva: पांच तत्वों से मिलकर धरती बनी है। ये पांच तत्व है- धरती, जल, वायु, अग्नि और आकाश। में से वायु को देखा नहीं जा सकता है लेकिन महसूस किया जा सकता है। आकाश को न तो देखा जा सकता है और न ही मनसूस किया जा सकता है। ...
4
4
5
Air pollution : भोजन के बगैर कुछ दिन रहा जा सकता है। पानी के बगैर एक दिन रहा जा सकता है लेकिन वायु के बगैर एक पल भी नहीं रहा जा सकता है। ऐसे में जब हमें शुद्ध वायु नहीं मिलेगी तो आप समझें कि क्या हो सकता है। यदि हम उत्तम भोजन करते हैं, स्वच्छ पानी ...
5
6
पर्यावरण दिवस 5 जून : जानिए 2022 की थीम सहित प्रकृति के 5 महातत्वों से जुड़ी हर जरूरी जानकारी... विश्व पर्यावरण दिवस 2022 की थीम
6
7
धरती-मां है हमारी! पर हममें से कितने हैं जो वाकई इस धरती के पर्यावरण के प्रति जागरुक हैं? उनके लिए न सिर्फ़ सोचते हैं बल्कि उस सोच को क्रिया में बदलते भी हैं। ऐसे लोगों की संख्या उंगलियों पर गिनी जा सकती है। बाकी तो पूरी भीड़ है ही-जो अच्छी तरह पैरों ...
7
8
5 June World Environment Day: 5 जून को पर्यावरण दिवस है। धरती सहित संपूर्ण ब्रह्मांड पांच तत्वों से मिलकर बना है। ये पांच तत्व है- आकाश, वायु, अग्नि, जल और धरती। धरती यानी की जड़ पदार्थ। जैसे सभी ग्रह और नक्षत्र इसी के अंतर्गत आते हैं। परंतु जीवन ...
8
8
9
सभी प्राणियों के लिए जल अति आवश्यक है। प्रत्येक प्राणी को जीवित रहने के लिए जल चाहिए। नि:संदेह जल ही जीवन है। जल के बिना जीवन की कल्पना करना असंभव है। जल के पश्चात मनुष्य को जीवित रहने के भोजन चाहिए। भोजन के लिए अन्न, फल एवं सब्जियां उगाने के लिए भी ...
9
10
प्रति वर्ष विश्व पर्यावरण दिवस के लिए एक थीम निर्धारित की जाती है जिसके अनुसार वह मनाया जाता है। यह थीम 2019 में 'वायु प्रदूषण',2020 में 'जैव विविधता',2021 में 'पारिस्थिकी तंत्र (इकोसिस्टम) का संरक्षण' थी और इस वर्ष 2022 में 'सिर्फ एक पृथ्वी' ...
10
11
क्या आप जानते हैं कि सुंदर महकते फूल आपके मन के साथ जीवन को भी खुशनुमा बना सकते हैं? जी हां, पर्यावरण दिवस पर आज बात करते हैं 5 ऐसे फूलों की जो रिश्तों में बढ़ाते हैं प्यार और विश्वास....
11
12
पर्यावरण शब्द संस्कृत भाषा के 'परि' एवं 'आवरण' से मिलकर बना है अर्थात जो चारों ओर से घेरे हुए है। 5 जून, 1974 को प्रथम विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया था
12
13
हम सभी यह जानते हैं की पेड़ पौधों में प्राण होते हैं। पर तकनीकों के सकारात्मक उपयोग से आज हम इतने आगे बढ़ गए हैं कि हम उनका संगीत भी सुन सकते हैं। उनकी भावना के आधार पर वह संगीत बनाते हैं। विज्ञान के कारण हमने सूर्य, बृहस्पति और पृथ्वी जैसे ब्रह्माण्ड ...
13
14
एडिलेड। ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों ने दुनिया का सबसे बड़ा पौधा खोज निकाला है। ऐसा माना जा रहा है कि इसके एक बीज को मिट्टी में रोपने से यह पौधा फुटबॉल के 28 हजार मैदानों जितने क्षेत्र में फैल सकता है। इस पौधे का नाम ' पॉसिडोनिया ऑस्ट्रेलियस' है।
14
15
इन गोल खेतों का चित्र आपने सोशल मीडिया पर देखा ही होगा। पृथ्वी पर google earth के माध्यम से घूमने वाले लोगों ने कभी न कभी इन खेतों के दर्शन तो किए ही होंगे। यह खेत खाड़ी देशों में आपको दिख ही जाएंगे। आइए जानते हैं इन खेतों के बारे में-
15
16
गुलमोहर, तुम्हारे इस तरह जाने के बाद भी शांत और स्थिर कुछ नहीं हुआ। सब बेचैन हैं, पीपल, नीम, आम और जर्जर चंदन सब खामोश खड़े हैं हाथों को बांधे, सिर को झुकाए लेकिन एक अशांत आर्तनाद और अस्थिर मन अब भी मेरे आसपास भटक रहा है।
16
17
पेड़-पौधे से ही धरती का जीवन संचालित होता है और यदि आपके घर के आसपास ऐसे पेड़ लगे हैं जो भरपूर ऑक्सीजन देने के साथ ही आपकी सेहत की रक्षा भी करते हैं तो आप निरोगी रहकर सुखी और समृद्ध बने रहेंगे। आओ जानते हैं ऐसे ही 10 पेड़ों के नाम।
17
18
हम आपके लिए लाए हैं ऐसे पौधों की जानकारी जिन्हें देख रेख की कम आवश्यकता होती है और विशेषकर कम पानी और अधिक धूप में भी इनका पोषण हो सकता है।
18
19
भारत तीन ओर से समुद्र से घिरा है और जिसके 13 राज्यों की सीमा से समुद्र लगा हुआ है। यहां देखने लायक एक और जहां बर्फ है तो दूसरी ओर समुद्र, एक ओर जहां जंगल है तो दूसरी ओर रेगिस्तान। ऊंचे-ऊंचे पहाड़ है तो वहां से बहती अद्भुत नदियां। आओ जाते हैं भारत के ...
19