0

Essay on Environment : पर्यावरण पर हिन्दी में रोचक निबंध

गुरुवार,मई 5, 2022
0
1
हम आपके लिए लाए हैं ऐसे पौधों की जानकारी जिन्हें देख रेख की कम आवश्यकता होती है और विशेषकर कम पानी और अधिक धूप में भी इनका पोषण हो सकता है।
1
2
आज फिर एक और ज़मीन के टुकड़े की किस्मत फूट गई, झुग्गी-झोपड़ियों को उखाड़ कर, वहां महल की नींव खुद गई।
2
3
विश्व पृथ्वी दिवस एक महत्वपूर्ण अवसर है। हर साल 22 अप्रैल, वैश्विक स्तर पर पर्यावरण संरक्षण के लिए पृथ्वी दिवस मनाया जाता है। यूं तो हर दिन पृथ्वी दिवस है क्योंकि हमारी धरती पर ही जीवन के लिए जरूरी वातावरण मौजूद है। लेकिन पृथ्वी दिवस के दिन हमें ...
3
4
Worldearthday 2022 : धरती पर कब तक जीवन रहेगा यह कहना अभी मुश्‍किल है लेकिन हर पदार्थ की एक प्राकृतिक आयु होती है। जैसे मनुष्य की आयु प्राकृतिक रूप से 125 वर्ष मानी गई है, लेकिन वह अलग खानपान, पर्यावरण, प्रदूषण, तनाव आदि के चलते 80 वर्ष तक ही जी ...
4
4
5
आज विश्व पृथ्वी दिवस है आइए पहल करें अपने घर से इस धरा को सजाने और संवारने की....
5
6
विश्व पृथ्वी दिवस 2022 (World earth day 2022) : हर साल की तरह इस साल भी 22 अप्रैल को 'विश्व पृथ्वी दिवस' दुनिया भर में मनाया जाएगा। इस दिन हम हमारे द्वारा वर्ष भर उपयोग किए जाने वाले प्राकृतिक संसाधनों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हैं और उनके ...
6
7
विश्‍व पृथ्‍वी दिवस 2022: आज धरती पर कई तरह के संकट है। एक ओर ग्लोबल वॉर्मिंग है तो दूरी ओर ओजोन परत का खतरा। एक तरफ कटते जंगल और पहाड़ है तो दूरी ओर सूखती नदियां, लेकिन इन सभी के बीच सबसे बड़ा खतरा धरती का भीतर से खोखली होते जाना। यानी हमारे पास जब ...
7
8
विश्‍व पृथ्वी दिवस 2022: आपने अपने जीवन में अनेक घड़ियों के बारे देखा और सुना होगा। सेल से चलने वाली से चाबी भरने वाली तक और अब आधुनिक युग की डिजिटल घड़ी जो आपकी दिल की धड़कन से लेकर आपके कदम तक गिन सकती है। पेंडुलम वाली से लेकर घण्टाघरों पर लगने वाली ...
8
8
9
World earth day : अंटार्कटिक में समुद्री बर्फ घटकर अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है। बर्फीले महाद्वीप तक जलवायु परिवर्तन का असर जितना सोचा गया, उससे कहीं जल्दी पहुंच गया है। फरवरी के आखिर में बर्फ से ढंके समुद्री इलाके का क्षेत्रफल 20 लाख ...
9
10
World Earth Day 2022 : इस बार विश्व पृथ्‍वी दिवस की थीम है- हमारी धरती और हमारा स्वास्थ्य। महात्मा गांधी ने जहां पर्यावरण संवरक्षण को लेकर अपने विचार रखे और उसको करके भी दिखया उसी तरह उन्होंने सेहत को लेकर सजग रहने के लिए भी खुद के जीवन को एक उदाहरण ...
10
11
WorldEarthDay 22 अप्रैल, यह वह तारीख है जो धरती को समर्पित रहती है। हर साल इस दिन विश्व के सभी 192 देश विश्व पृथ्वी दिवस या अंग्रेजी में कहें तो वर्ल्ड अर्थ डे मनाते हैं।तो चलिए जानते हैं वर्ल्ड अर्थ डे के बारे में कि यह मनाया जाना आरम्भ कैसे हुआ, ...
11
12
इस अध्ययन में बताया गया है कि सामान्य सालों में पश्चिमी अमेरिका के सिएरा नवेदा में गिरी बर्फ कैलीफोर्निया के पानी की 30 प्रतिशत को जरूरत को पूरा करती है, लेकिन हाल ही में इस राज्य में कई बर्फ के अकाल के कई दौर देखे गए हैं।
12
13
वैज्ञानिकों के मुताबिक 19वीं सदी से अब तक दर्ज किए जा रहे तापमान में हुई वृद्धि में प्राकृतिक वजहों का योगदान न के बराबर है, जबकि अब इसके पीछे सबसे बड़ी वजह इंसानों की गतिविधियों को बताया गया है।
13
14
जैव-विविधता में ह्रास और जलवायु परिवर्तन मानव-गतिविधियों द्वारा प्रकृति के चिंताजनक ढंग से प्रभावित होने के उदाहरण हैं। यह मानव-जन्य प्रभाव एक निश्चित समयावधि के बाद स्वयं मानव जीवन को भी गंभीर रूप से प्रभावित करेगा।
14
15
एक वक्‍त था जब बाघों की प्रजाती पर संकट आ गया था और तेजी से इनकी संख्‍या घट रही थी। हालांकि अब बाघों की संख्‍या में इजाफा हो रहा है। बाघों के संरक्षण के लिए कई स्‍तरों पर प्रयास किए जा रहे हैं। इसी प्रयास में एक विश्‍व बाघ दिवस यानी अंतर्राष्‍ट्रीय ...
15
16
प्रकृति संरक्षण का अर्थ है स्वयं का भी संरक्षण। प्रकृति से ही तो हम हैं। प्रकृति संरक्षण के सुझावों में मेरा पहला सुझाव है जिसमें हमें प्रकृति पर नहीं स्वयं पर ध्यान देना है
16
17
आज विश्व पर्यावरण दिवस है। यह हर साल 5 जून को मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य है लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना। क्योंकि प्रकृति के बिना मानव जीवन कुछ भी नहीं है।
17
18
भारत तीन ओर से समुद्र से घिरा है और जिसके 13 राज्यों की सीमा से समुद्र लगा हुआ है। यहां देखने लायक एक और जहां बर्फ है तो दूसरी ओर समुद्र, एक ओर जहां जंगल है तो दूसरी ओर रेगिस्तान। ऊंचे-ऊंचे पहाड़ है तो वहां से बहती अद्भुत नदियां। आओ जाते हैं भारत के ...
18
19
पेड़-पौधे से ही धरती का जीवन संचालित होता है और यदि आपके घर के आसपास ऐसे पेड़ लगे हैं जो भरपूर ऑक्सीजन देने के साथ ही आपकी सेहत की रक्षा भी करते हैं तो आप निरोगी रहकर सुखी और समृद्ध बने रहेंगे। आओ जानते हैं ऐसे ही 10 पेड़ों के नाम।
19
20
हिन्दू धर्म में प्रकृति का बहुत महत्व बताया गया है। हिन्दू धर्म के सभी त्योहार प्रकृति से ही जुड़े हुए हैं। प्रकृति से हमें फल, फूल, सब्जी, कंद-मूल, औषधियां, जड़ी-बूटी, मसाले, अनाज, जल आदि सभी प्राप्त होते ही हैं। इसलिए भी इसका संवरक्षण करना जरूरी ...
20
21
छोटा-सा तुलसी बिरवा। नन्ही-सी हरी कच एक नाजुक पत्ती। जब रोपा तो एक साथ कई स्वर उठे 'नहीं पनपेगा', 'जड़ नहीं पकड़ेगा'। मन का प्रबल विश्वास 'चेतेगा, पनपेगा, जरूर पनपेगा।' आत्मा की हर भावुक लहर से उसे सिंचित किया। संपूर्ण एकाग्रता से पोषित किया। बिरवे ...
21
22
प्रति वर्ष की तरह इस बार भी 5 जून 2021 को विश्व पर्यावरण दिवस मनेगा....इस बार इस वर्ष की थीम -यू एन ई पी संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम ने 'पर्यावरण पुनरुत्थान' (इकोसिस्टम रीस्टोरेशन) घोषित की है...पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली के लिए, ...
22
23
विश्व पर्यावरण दिवस हर साल 5 जून को मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य है लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना। क्योंकि प्रकृति के बिना मानव जीवन कुछ भी नहीं है। मनुष्य कितना ही लग्जरी जीवन क्यों नहीं जिएं, राहत की सांस, सुकून और ...
23
24
पर्यावरण और जीवन का अटूट संबंध है, इसी से मनुष्य को जीने की मूलभूत सुविधा उपलब्ध होती है, ऐसे में इसके संरक्षण, संवर्धन और विकास की दिशा में ध्यान देना सभी का कर्तव्य है। इसी बात के प्रति लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से 5 जून को हर साल 'विश्व ...
24
25
वर्षा ऋ‍तु में पौधारोपण किया जाता है। पौधारोपण करते समय ज्योतिष और वास्तु का ध्यान रखते हुए उचित दिशाम में पौधारोपण करेंगे तो यह बहुत ही लाभदायक‍ सिद्ध होगा। इससे जहां घर में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ेगी वहीं सभी तरह के संकट भी समाप्त हो जाएंगे। आओ जानते ...
25
26
हिंदू धर्म में प्रकृति के सभी तत्वों की पूजा, प्रार्थना का प्रचलन और महत्व है, क्योंकि हिंदू धर्म मानता हैं कि प्रकृति से ही हमारा जीवन संचालित होता है। इसीलिए प्रकृति को देवता, भगवान और पितृदेव माना गया है। हिन्दू संस्कृति के अधिकतर तीज त्योहार और ...
26
27
बचे हुए प्राकृतिक जंगलों को , उनकी सरहदों पर कंटीले तारों की बागड़ से घेरा जा सकता है। पेड़ों के छोटे से छोटे झुरमुट को भी इसी तरह बचाया जा सकता है। क्योंकि प्राकृतिक जंगलों का कोई विकल्प नहीं होता।
27
28
भारतीय संस्कृति, धर्म, दर्शन, अध्यात्म और ज्योतिष में पर्यावरण या प्रकृति का बहुत महत्व है। प्रकृति के बगैर दर्शन और ज्योतिष की कल्पना नहीं की जा सकती है। आओ जानते हैं इस संबंध में 10 खास बातें।
28
29
प्रत्येक व्यक्ति का जन्म किसी न किसी राशि के नक्षत्र में ही होता है। प्रत्येक ग्रह, राशि और नक्षत्र का एक प्रतिनिधि वृक्ष होता है। यहां नक्षत्र, ग्रह और राशियों के वृक्ष को जानकर आप अपने घर के आसपास उचित स्थान पर लगाएंगे तो आपको इसका लाभ मिलेगा। इन ...
29
30
लाल किताब के अनुसार हमारे जीवन में पेड़, पौधे या वृक्षों का बहुत अधिक महत्व होता है। यदि यह घर की उचित दिशा में नहीं लगे हैं तो यह आप पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं और अनुचित दिशा में लेग हैं तो नकारात्मक भी। दूसरा यह कि आपकी कुंडली के अनुसार यदि ...
30
31
चि‍ड़िया चहक-चहक कहती, सुबह-शाम मैं गगन में रहती
31
32
हर धर्म में पेड़, पौधे और वृक्षों का बहुत महत्व है, परंतु इसको कोई महत्व नहीं देता है। जिस देजी से वृक्ष कटते जा रहे हैं उससे धरती का पर्यावरण ही नहीं बदल रहा है बल्कि जीवन में संकट में हो चला है। धरती पर ऑक्सीजन का निर्माण करने में वृक्षों की ...
32