0

आज बकरीद है: पढ़ें खास बातें

बुधवार,जुलाई 21, 2021
0
1
ईद-उल-अजहा पैगंबर हजरत इब्राहीम अलेहिस्सलाम द्वारा अल्लाह के हुक्म पर अपने बेटे हजरत इस्माईल अलैय सलाम की कुर्बानी देने की यादगार है।
1
2
ईद पर बकरे की कुर्बानी की जाती है। वैसे इस ईद को ईदुज्जौहा औए ईदे-अजहा भी कहा जाता है। इस ईद का गहरा संबंध कुर्बानी से है। पैगम्बर हज़रत इब्राहीम को खुदा की तरफ से हुक्म हुआ कि कुर्बानी करो, अपनी सबसे ज्यादा प्यारी चीज की कुर्बानी करो।
2
3
बुधवार, 21 तारीख को ईद-उल-जुहा अर्थात् बकरीद मुसलमानों का प्रमुख त्योहार है। इस दिन मुस्लिम बहुल क्षेत्र के बाजारों की रौनक बढ़ जाती है।
3
4
ईद-उल-अजहा या ईदे-अजहा मुस्लिम भाइयों का एक महत्वपूर्ण त्योहार है। इस वर्ष यह 21 जुलाई को मनाया जा रहा है। ईद तीन तरह की होती है। ईदे-अजहा के अलावा दो और ईद हैं- ईदुलफित्र या रमजान ईद
4
4
5
21 जुलाई ईद-उल-जुहा पर्व मनाया जाएगा। देश के विभिन्न स्थानों पर चांद देखने के हिसाब से चांद की दसवीं तारीख को ईद-उल-अजहा (बकरीद) का त्योहार मनाया जाता है।
5
6
11 जुलाई 2021, रविवार को देश के विभिन्न स्थानों पर चांद देखा गया, इस हिसाब से चांद की दसवीं तारीख को ईद-उल-अजहा (बकरीद) का त्योहार मनाया जाता है। इस वर्ष बुधवार, 21 जुलाई को ईद उल-अज़हा का पर्व मनाए जाने की उम्मीद है।
6
7
बकरीद या ईद-उल-अजहा के त्योहार पर अधिकतर महिलाएं और लड़कियां मेहंदी लगाती हैं। कई महिलाओं को नई-नई तरह डिजाइन वाली मेहंदी लगाने का शौक होता है।
7
8
ईद-उल-अजहा या बकरीद मुस्लिम समुदाय का महत्वपूर्ण त्योहार होता है। यह त्योहार रमजान के पवित्र माह की समाप्ति के लगभग 70 दिनों बाद मनाया जाता है। इस्लाम धर्म की मान्यता के अनुसार इसी दिन मुसलमानों के पैगंबर हजरत इब्राहीम
8
8
9

Essay on Eid : ईद पर निबंध

बुधवार,जुलाई 21, 2021
इस्लामिक कैलेंडर में दो बार ईद मनाई जाती है। ईद उल फित्र और ईद उल अज़हा। इस्लाम में रमज़ान ईद का दिन बहुत ही खुशी का दिन माना गया है।
9
10
13 मई को चांद नजर आने की संभावना जताई जा रही है, अत: भारत में खुशियों का त्योहार ईद-उल-फितर 14 मई को मनाए जाने की उम्मीद है।
10
11
पवित्र महीने रमजान के बाद अल्लाह की नेमतों को पाने के लिए देशभर में ईद उल फितर का त्योहार मनाया जाएगा। ईद-उल-फितर का त्योहार चांद के निकलने पर निर्भर करता है।
11
12
अल्लाह की नेमतों और बरकतों से भरपूर इस्लाम के पवित्र महीने रमजान के बाद ईद उल फितर का त्योहार मनाया जाएगा। ईद की नमाज के बाद इमाम खुत्बा देते हैं और दुआ फरमाते हैं।
12
13
रमजान में पूरे महीने रोजे रखने के बाद ईद-उल फितर का त्योहार मनाया जाता है। इस बार मीठी ईद 13 या 14 मई को मनाई जाएगी। रमजान-उल मुबारक माह के बाद ईद-उल फितर
13
14
रमजान-उल-मुबारक इस्लामिक कैलेंडर का नौवां महीना है। इस माह को अरबी में माह-ए-सियाम भी कहते हैं। यह रहमतों वाला, बरकतों वाला महीना है,
14
15
ईद-उल-जुहा अर्थात् बकरीद मुसलमानों का प्रमुख त्योहार है। इस दिन मुस्लिम बहुल क्षेत्र के बाजारों की रौनक बढ़ जाती है। बकरीद पर खरीददार बकरे, नए कपड़े, खजूर और सेवईयां आदि खरीदते हैं...
15
16
ईद-उल-अजहा को कई नामों से जाना जाता है। ईदे-अजहा को नमकीन ईद भी कहा जाता है। यह मुस्लिम भाइयों का महत्वपूर्ण त्योहार है।
16
17
मुसलमानों के लिए अल्लाह ने खुशी मनाने के लिए साल में मुकर्रर दो ईद में से एक ईदुल-अजहा है। ईद-उल-अजहा पैगंबर हजरत इब्राहीम अलेहिस्सलाम द्वारा अल्लाह के
17
18
ईद-उल-अजहा को 'नमकीन ईद' के नाम से भी जाना जाता है। आइए जानें पर इस खास मौके पर बनाई जाने वाली खास डिशेस
18
19
ईद उल फित्र का दिन पवित्र रमज़ान माह के बाद आता है़ जब सभी लोग पूरे माह रमज़ान के रोज़े रखने के बाद अल्लाह से दुआ करते हैं। इसके बाद शव्वाल माह आता है
19