कैंसर से बचना है तो कीजिए शादी....

शादी कीजिए.. कैंसर से बचिए

FILE

के लिए एक बिल्कुल नई उपचार पद्धति हाजिर है। जी हां... शादीशुदा होना भी कैंसर जैसी भंयकर बीमारी से निजात दिलाने में हो सकता है।


बाल्टिमोर में स्टीवर्ट ग्रीननीबम कैंसर सेंटर और मेरीलैंड मारलीन विश्वविद्यालय के एक शोध के मुताबिक फेफड़ों के कैंसर से जूझ रहे विवाहित मरीजों के लंबे समय तक बचने की उम्मीद होती है, बनिस्बत उनके जो होते हैं। प्रोस्टेट, मस्तिष्क और गला समेत अन्य कैंसर में भी शादी का फायदा ही मिलता है।

FILE
अध्ययनकर्ताओं ने फेफड़े के कैंसर का एक सामान्य रूप तीसरे चरण के नॉन स्माल सेल लंग कैंसर के 168 मरीजों का अध्ययन किया। इन मरीजों का 10 साल से कीमोथैरेपी और विकिरण से इलाज चल रहा था।

उन्होंने पाया कि 10 फीसदी अविवाहित मरीजों की तुलना में 33 फीसदी विवाहित मरीज तीन साल बाद भी जीवित रहे और इसमें भी पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अच्छे नतीजे देखने को मिले।

विवाहित महिला में तीन साल तक जीवित रहने की दर 46 प्रतिशत रही जबकि अविवाहित लोगों में केवल तीन प्रतिशत ही रहा।
अध्ययनकर्ता एलिजाबेथ निकोलस ने कहा कि वैवाहिक स्थिति मरीजों के बचाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है। इसका कारण तो अभी नहीं पता, लेकिन सामाजिक मदद एक कारण हो सकता है जिससे जीने का हौसला बढ़ता हो। (भाषा)



और भी पढ़ें :