0

कई देशों में भारी बिजली कटौती, सड़कों पर उतरे गुस्साए लोग

शुक्रवार,जुलाई 23, 2021
0
1
दिल्ली में कई ऐसे पैरेंट्स हैं, जो कोरोना की आर्थिक मार के चलते अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में भेज रहे हैं। लेकिन कई बार पूरी फीस न भरने के चलते प्राइवेट स्कूल बच्चों को ट्रांसफर सर्टिफिकेट देने में आनाकानी कर रहे हैं।
1
2
दुनियाभर में मशहूर भारतीय शादियों की चमक कोरोना काल में फीकी पड़ी है। शॉपिंग ऑनलाइन हो रही है। गेस्ट लिस्ट छोटी हो गई है। पिछले साल तक कोरोना प्रतिबंधों की शिकायतें आ रही थीं लेकिन अब लोग इन्हें सामान्य मान चुके हैं।
2
3
म्यांमार से सटे चीनी शहर में कोरोना के प्रकोप को खत्म करने के लिए व्यक्तिगत स्वास्थ्य कोड से जुड़ी चेहरे की पहचान तकनीक का प्रयोग शुरू किया गया है। चीन दुनिया के सबसे अधिक सर्वेलांस करने वाले देशों में से एक है, जहां सरकार सभी सार्वजनिक स्थानों को ...
3
4
बुनियादी सुविधाओं और डिजिटलीकरण की कमी से जूझते सरकारी स्कूलों में टीचर भी कम हो रहे हैं। ये हाल तब है जबकि कोरोना काल में ऑनलाइन पढ़ाई के दबाव और जरूरतों ने सरकारी स्कूलों के बच्चों को सबसे ज्यादा प्रभावित किया है।
4
4
5
मौसमी वेबसाइट स्पेसवेदर.कॉम के मुताबिक सूर्य के वायुमंडल से उत्पन्न तूफान का पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र के प्रभुत्व वाले अंतरिक्ष के क्षेत्र पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है। एक भयंकर सौर तूफान 16 लाख किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पृथ्वी की ओर बढ़ ...
5
6
गुरुवार को एक भाषण में अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने अफगानिस्तान से फौजें बुलाने के अपने फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि वहां के लोगों को अपना भविष्य खुद तय करना चाहिए। अमेरिका ने अफगानिस्तान से अपने सैनिक वापस बुलाने की समयावधि को और कम कर दिया ...
6
7
अफगानिस्तान से नाटो सैनिकों की वापसी के बीच तालिबान एक बार फिर से अपनी पकड़ मजबूत कर रहा है। अफगान मीडिया का आरोप है कि इसके पीछे पाकिस्तान का हाथ है और वह तालिबान की मदद कर रहा है।
7
8
नीति सलाहकार कंपनी डलबर्ग ने एक रिपोर्ट में बताया है कि महामारी के दौरान भारत में महिलाओं को बेरोजगारी का सामना करना पड़ा। बिना पैसा दिए उनसे काम कराया गया। यहां तक कि वे भरपेट खाना भी नहीं खा सकीं।
8
8
9
अपनी फौजों को अफगानिस्तान से वापस बुला लेने के बाद अमेरिकी सरकार अफगानिस्तान की उन महिलाओं को वीजा देने पर विचार कर रही है, जो संभावित तालिबानी कब्जे में खतरे में पड़ सकती हैं।
9
10
भारत के ज्यादातर हिस्सों में कोरोना संक्रमण के मामले कम हो रहे हैं और इसकी वजह से लगी पाबंदियों में ढील दी जा रही है। वहीं पूर्वोत्तर भारत में संक्रमण की मौजूदा स्थिति ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है।
10
11
इसराइल ने कहा है कि संक्रमण रोकने में फाइजर-बायोएनटेक टीके के असर में कमी देखी गई है। यह हल्का संक्रमण भी नहीं रोक पा रही है। हालांकि लोगों को गंभीर रूप से बीमार होने से बचाने के मामले में दवा अब भी असरदार बनी हुई है।
11
12
चार लाख से ज्यादा लोगों की मौत के बाद भी भारत सरकार यह तय नहीं कर सकी है कि कोविड-19 की स्टैंडर्ड आरटीपीसीआर रिपोर्ट कैसी होनी चाहिए। फर्जी रिपोर्टें दिखा रही है कि प्रचार की दीवानी सरकारें कितनी लापरवाह हैं।
12
13
7 सदस्यों वाले परिवार का पेट पालने वाली आशा देवी को अब यह भी याद नहीं कि उन्हें कितनी बार खाना छोड़ना पड़ा। कोरोना गांवों में कर्ज और ब्याज की पुरानी समस्या को और बढ़ा रहा है।
13
14
सिडनी समेत ऑस्ट्रेलिया के कई बड़े शहर इस वक्त लॉकडाउन में हैं। देश की सीमाएं एक साल से ज्यादा समय से बंद होने के बावजूद कोरोनावायरस को रोकने में कामयाबी नहीं मिल पाई तो अब रणनीति बदली गई है।
14
15
पिछले साल दिल्ली सरकार की ओर से रोजगार बाजार पोर्टल शुरू किया गया था। दिल्ली में विनाशकारी कोविड लहर के बाद अनलॉक प्रक्रिया के दौरान रोजगार बाजार दिल्ली के बेरोजगारों के लिए लाइफलाइन बना हुआ है। रोजगार बाजार में जून में रोजाना लगभग 1,000 नए नौकरी ...
15
16
इसराइल में 85 प्रतिशत वयस्कों को कोरोनावायरस के खिलाफ टीका लग चुका है, लेकिन देश में एक बार फिर महामारी रफ्तार पकड़ रही है। जानकार चिंता व्यक्त कर रहे हैं कि देश कहीं संकट की तरफ तो नहीं बढ़ रहा।
16
17
1 जुलाई से यूरोपीय संघ के भीतर स्वतंत्र रूप से यात्रा करने के लिए 'ग्रीन पास' की आवश्यकता होगी। इटली के मटेरा में जी-20 के विदेश मंत्रियों की बैठक के इतर भारतीय भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने यूरोपीय संघ के विदेश मामलों के प्रतिनिधि योसेप बोरेल ...
17
18
इस साल भारत में आया प्रत्यक्ष विदेशी निवेश 81.7 बिलियन डॉलर यानी 60 खरब रुपए से ज्यादा रहा है। पिछले साल के मुकाबले इस साल FDI में 10 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। और यह एक वित्तीय वर्ष में आया अब तक का सबसे ज्यादा FDI है।
18
19
जब भारत के ज्यादातर हिस्सों में लॉकडाउन खोलकर जीवन पटरी पर लाने की कोशिश हो रही है, तीसरी लहर को लेकर हो रहे दावे चिंता बढ़ा रहे हैं। बहुत से लोगों ने तो मास्क लगाना और कोरोना नियमों को मानना भी बंद कर दिया है।
19