Lockdown 4.0 : दो महीने बाद शुरू हुई घरेलू उड़ानें, कोरोना काल में बदल गया हवाई सफर

Last Updated: सोमवार, 25 मई 2020 (13:55 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। अनिच्छा जताने के बीच सोमवार को देश में 2 महीने के अंतराल के बाद घरेलू यात्री विमान सेवाएं फिर से शुरू हो गई हैं। नागर विमानन अधिकारियों की सख्त नियमन अनुशंसा के तहत पहले विमान ने दिल्ली हवाई अड्डे से पुणे के लिए सुबह 4.45 बजे उड़ान भरी जबकि मुंबई हवाई अड्डे से पहली उड़ान 6.45 बजे पटना के लिए भरी गई।

देशभर में सोमवार को कई उड़ानें रद्द कर दी गईं। उदाहरण के लिए विमानन उद्योग के सूत्रों ने बताया कि दिल्ली हवाई अड्डे पर अब तक करीब 82 उड़ानें (आने और जाने वालीं) रद्द कर दी गई हैं। महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु जैसे राज्य जहां देश के सबसे व्यस्ततम हवाई अड्डे हैं, वे अपने राज्यों में कोरोना वायरस संक्रमण मामले बढ़ने का हवाला देकर हवाई अड्डों से घरेलू विमान सेवा शुरू करने के लिए इच्छुक नहीं हैं।
सरकार ने पिछले हफ्ते घोषणा की थी कि कुछ खास नियमों एवं दिशा-निर्देशों के तहत 25 मई से घरेलू विमान सेवाएं फिर से शुरू की जाएंगी। इनमें टिकट की कीमतों को सीमित करना, यात्रियों द्वारा मास्क पहनना, विमान के भीतर खाना नहीं दिए जाने और आरोग्य सेतु ऐप या स्वघोषणा वाले फॉर्म के जरिए यात्रियों द्वारा चिकित्सीय स्थिति के विवरण उपलब्ध कराना जैसे नियम शामिल थे।

सरकार का यह फैसला ऐसे वक्त में आया, जब विमानन क्षेत्र 25 मार्च को लागू होने के बाद से जबर्दस्त आर्थिक संकट का सामना कर रहा था। कई राज्यों ने विमान सेवा शुरू करने के केंद्र के फैसले को लेकर आपत्ति जताई थी।
कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल, बिहार, पंजाब, असम और आंध्रप्रदेश समेत अन्य ने उनके हवाई अड्डों पर आने वाले यात्रियों के लिए अपने-अपने क्वारंटाइन नियमों की घोषणा की है। कुछ राज्यों ने यात्रियों को अनिवार्य रूप से संस्थागत क्वारंटाइन केंद्रों में रखने का फैसला किया है जबकि कई अन्य उन्हें घर में ही क्वारंटाइन में रखने पर चर्चा कर रहे हैं।
नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने यात्री के फोन में आरोग्य सेतु ऐप में ग्रीन स्थिति दिखने के बावजूद उसे क्वारंटाइन में रखने की जरूरत पर सवाल उठाए। ग्रीन स्थिति दिखाती है कि यात्री कोविड-19 से सुरक्षित है।

सोमवार के लिए निर्धारित करीब 1,050 घरेलू विमान के लिए बुकिंग शुरू की गई थी लेकिन रविवार को संशोधित कदमों की घोषणा के चलते कई विमानों को रद्द करना पड़ा जिसके चलते सैकड़ों यात्री मायूस हो गए। जिन विमानों को एक-तिहाई क्षमता से परिचालन की अनुमति दी गई थी, वे रविवार रात से विमान समयसारणियों पर फिर से काम करने में व्यस्त थे।
सरकारी अधिकारियों ने रविवार शाम कहा कि चक्रवात प्रभावित पश्चिम बंगाल में कोलकाता और बागडोगरा हवाई अड्डे 25 से 27 मई के बीच किसी घरेलू विमान का परिचालन नहीं करेंगे लेकिन 28 मई से हर दिन 20 उड़ानों का परिचालन देखेंगे। उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र में मुंबई और तेलंगाना में हैदराबाद हवाई अड्डे सोमवार से क्रमश: 50 और 30 विमानों का परिचालन करेंगे।

महाराष्ट्र सरकार ने रविवार को केंद्र सरकार से अनुरोध किया था कि राज्य में हवाई सेवाओं को न्यूनतम संभव स्तर पर रखा जाए। मुंबई देश का दूसरा सबसे व्यस्ततम हवाई अड्डा है। पुरी ने रविवार रात ट्विटर पर कहा कि सोमवार से मुंबई से सीमित उड़ानों का परिचालन होगा।
पुरी ने ट्वीट कर यह भी बताया कि सोमवार से चेन्नई में अधिकतम 25 विमान उतर सकेंगे और यहां से उड़ान भरने वाले विमानों की संख्या पर कोई सीमा नहीं होगी। तमिलनाडु के अन्य हवाई अड्डों के लिए विमानों का उसी प्रकार परिचालन होगा, जैसा राज्य के अन्य हिस्सों से हो रहा है। मंत्री ने कहा कि आंध्रप्रदेश सरकार से अनुरोध प्राप्त होने के बाद मंगलवार से राज्य से विमान सेवाएं सीमित स्तर पर शुरू होंगी।
स्वास्थ्य मंत्रालय ने घरेलू यात्रा के लिए रविवार को दिशा-निर्देश जारी किए थे जिसके तहत यात्रियों को अपने मोबाइल फोन पर आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने की सलाह दी गई और राज्यों से हवाई अड्डों, रेलवे स्टेशनों और बस अड्डों के प्रस्थान बिंदु पर थर्मल स्क्रीनिंग सुनिश्चित करने को कहा गया।

मंत्रालय ने कहा कि बिना लक्षण वाले यात्रियों को 14 दिन के लिए स्वनिगरानी परामर्श के साथ यात्रा की अनुमति दी जाएगी। घरेलू यात्रा (हवाई/ ट्रेन/ अंतरराज्यीय बस यात्रा) के लिए जारी दिशा-निर्देशों में कहा गया कि संबंधित एजेंसियों को यात्रियों को टिकट के साथ 'क्या करें और क्या न करें' की सूची भी उपलब्ध करानी होगी। (भाषा)



और भी पढ़ें :