COVID 19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में आए 4006 नए मामले, 86 लोगों की हुई मौत

पुनः संशोधित मंगलवार, 1 दिसंबर 2020 (21:49 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। दिल्ली में मंगलवार को संक्रमण के 4,006 नए मामले सामने आए। इसके बाद राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमितों की कुल संख्या 5.74 लाख से अधिक हो गई। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।
ALSO READ:

मिशन वैक्सीन : भारत में शुरू हुआ रूसी वैक्सीन Sputnik V का क्लिनिकल ट्रॉयल
उन्होंने कहा कि कोविड-19 से 86 और मरीजों की मौत हो गई। इसके बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 9,260 पर पहुंच गई। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार संक्रमण की दर 6.85 प्रतिशत है। बुलेटिन में कहा गया कि अभी दिल्ली में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 31,769 है। इसके अनुसार नए मामलों के बाद राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 5,74,380 हो गई है।
नाइट कर्फ्यू की संभावना नहीं : राष्ट्रीय राजधानी में पिछले कुछ सप्ताहों में कोविड-19 की संक्रमण दर में गिरावट आने के बाद अब ऐसी संभावना नहीं है कि दिल्ली सरकार रात का कर्फ्यू लगाएगी। सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

इससे पहले दिन में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने मीडिया ब्रीफिंग में कहा था कि दिल्ली में संक्रमण दर में नवंबर की शुरुआत के बाद से करीब 55 फीसद की गिरावट आई है तथा अगले दो सप्ताहों में इसमें और कमी आएगी।
उन्होंने कहा कि दिल्ली में संक्रमण दर 7 नवंबर के 15.26 फीसद से घटकर 7.35 फीसद पर आ गई है। कल दिल्ली में 3,726 नए मामले आए और संक्रमण दर 7.35 फीसद रही।


पिछले सप्ताह दिल्ली सरकार ने उच्च न्यायालय में कहा था कि वह तीन से चार दिनों में यह तय करेगी कि राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 के प्रसार को थामने के लिए रात का कर्फ्यू लगाया जाए या नहीं।
सरकार के सूत्र ने कहा कि कर्फ्यू लगाने के बारे में सरकार द्वारा निर्णय लिए जाने का संबंध संक्रमण दर से है। चूंकि संक्रमण दर में काफी गिरावट आई है यानी संक्रमण कम हो रहा है, ऐसे में ऐसी संभावना कम है कि सरकार रात के कर्फ्यू का पक्ष लेगी।

गृह मंत्रालय ने 25 नवंबर को जारी अपने दिशा-निर्देशों में कहा था कि राज्य एवं केंद्रशासित प्रदेश अपने आकलन के आधार पर कोविड-19 के प्रसार के रोकथाम के लिए रात के कर्फ्यू जैसी स्थानीय पाबंदियां लगा सकती हैं।
वैसे जब जैन से दिल्ली में रात के कर्फ्यू की संभावना के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा था कि हम नजर रख रहे हैं कि क्या कदम उठाया जाना है। हम देखेंगे कि यह (संक्रमण दर) गिरती है या पलटती है। (भाषा)



और भी पढ़ें :