X-mas : भारत में इन 10 जगहों पर बना सकते हैं यादगार क्रिसमस

Symbols of Christmas

25 दिसंबर को ईसाई धर्म का सबसे अच्छा खास पर्व मनाया जाता है। माना जाता है कि इस दिन ईसा मसीह यानि यीशु का जन्म हुआ था। दुनिया की अलग-अलग जगहों पर यह त्योहार हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। क्रिसमस का त्योहार आते ही बाजारों में रौनक बढ़ जाती है। घर की साफ -सफाई की जाती है। नए कपड़ों की खरीदारी की जाती है। करीब 1 सप्ताह तक क्रिसमस का त्योहार मनाया जाता है।

चर्च/गिरिजाघरों को रंग-बिरंगी लाइटों से सजाया जाता है तो फर वाले पेड़ आकर्षण का केंद्र होते हैं। विदेशों में तो क्रिसमस की अलग ही धूम देखी जाती है लेकिन क्या आप जानते हैं अगर आप भारत में है तो देश के चारों दिशाओं में बसे 12 जगहों पर क्रिसमस सेलिब्रेट कर सकते हैं और क्रिसमस को यादगार बना सकते हैं। तो आइए जानते हैं देश में उन 12 जगहों के नाम जहां क्रिसमस सेलिब्रेट किया जा सकता है -

1.गोवा - गोवा में ईसाईयों की संख्या बहुतायात हैं। दिसंबर का खुशनुमा मौसम होने के साथ गोवा में सैलानियों की भीड़ जुट जाती है। चारों और केक और पेस्ट्री की खुशबू महकती है। सांता क्लॉज की टोपी पहने लोग चर्च में प्रार्थना करते हैं।

गोवा के चर्च दुनियाभर में प्रसिद्ध हैं। बेसिलिका ऑफ बॉम जीजस, सेंट एंटनी चर्च, सेंट एंड्रयू चर्च, नवेलिन चर्च गोवा में प्रसिद्ध हैं।

2.दमन - दीव - यहां पर अलग अंदाज में क्रिसमस सेलिब्रेट किया जाता है। दमन-दीव में पुर्तगालियों का प्रभाव रहा है। यहां पुर्तगाली नृत्य किया जाता है। रात के दौरान लैंप की रोशनी होती है। जगह-जगह सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं। क्रिसमस के दौरान दमन और दीव में अलग ही आकर्षण होता है।

3.केरल - केरल में अन्य त्योहारों के साथ ही क्रिसमस पूरी धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन केरल में सभी चर्चों में प्रभु यीशु का याद कर उत्साह के साथ उनका जन्मदिन मनाते हैं। केरल में बड़ी तादाद में ईसाई समुदाय के लोग रहते हैं। इन दिनों बाजारों में रौनक बढ़ जाती है। चर्चों को चमचमाती रोषनियों से सजाया जाता है, तो कहीं फूलों से सजावट की जाती है। मिठाई और अलग-अलग प्रकार के व्यंजन भी बनाए जाते हैं।

4.मुंबई - मुंबई एक ऐसा शहर जो कभी नहीं सोता है। और क्रिसमस और नए साल पर तो धूम और बढ़ जाती है। अगर आप मुंबई में क्रिसमस मना रहे हैं तो ये 5 चर्च जरूर जाएं। माउंट मैरी चर्च, सैंट माइकल चर्च, सेंट थॉमस कैथेड्रल चर्च, सैंट ऐनी चर्च और सेंट एंड्रयू चर्च।

5.दादर एवं नगर हवेली - अन्य राज्यों की तरह यहां पर भी क्रिसमस का त्योहार बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है। यहां दादरा एवं नगर हवेली में आप क्रिसमस सेलिब्रेट कर रहे हैं तो चर्च ऑफ अवर लेडी ऑफ पाएटी बहुत प्रसिद्ध है। वहां जरूर जाएं।

6.बैंगलोर - क्रिसमस को बहुत ही खूबसूरत तरीके से और लजीज व्यंजन के साथ ही मनाने चाहता है तो बैंगलोर आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प होगा। पूरे शहर में क्रिसमस की अलग ही धूम होती है। तो कई जगहों पर ब्रिटिश और फ्रांसीसी कला से प्रभावित चर्च भी हैं। जो आकर्षण का केंद्र है।

7.दिल्ली - दिल्ली में ईसाई समुदाय की बहुत अधिक संख्या नहीं है। लेकिन दिसंबर माह में ठंड की दस्तक बढ़ जाती है जिससे उत्सव में और अधिक मजा आता है। सेक्रेड हार्ट कैथेड्रल और कैपिटल सिटी मिनस्ट्रेल में संगीत कार्यक्रम जारी रहता है। ईसाई इलाके रोषनी से जगमगाते हैं, पूरे शहर में उत्सव की धुन गूंजती है। शहर में क्रिसमस की पारंपरिक धूम रहती है।

8.कोलकाता - सिटी ऑफ जॉय के नाम से मषहूर कोलकाता में क्रिसमस का जष्न धूमधाम से मनाया जाता है। चर्च में सितारों की जगमगाहट, सजावट तो कहीं फर वाले पेड़ पर लाइटिंग लगी रहती है। सेंट पॉल कैथेड्रल का मध्यरात्रि में सामूहिक आयोजन होता है और केरल्स की मधुर ध्वनि काफी दूर तक गूंजती है। एंग्लो-इंडियन समुदाय पारंपरिक शैली में जश्न मनाते हैं। कोलकाता के प्रसिद्ध चर्च - क्रिस्ट द किंग चर्च, सेंट थॉमस चर्च, सेंट जॉन चर्च सेंट एंड्रयू चर्च।

9.शिमला -शिमला

में ईसाई समुदाय की बड़ी आबादी है। पहाड़ियों में शांतिपूर्ण और सादगी से इस त्योहार को मनाया जाता है। पारंपरिक व्यंजन तैयार कर उनका लुत्फ उठाया जाता है। पहाड़ियों में क्रिसमस का त्योहार अन्य जगहों की तुलना में अधिक बढ़ जाता है। तो कहीं रात में ईसा मसीहा यीषु को याद कर देर रात तक पारंपरिक प्रार्थना की जाती है।

10.पांडिचेरी - आपको जानकर खुशी होगी कि पांडिचेरी
को भारत का छोटा फ्रांस कहा जाता है। यहां बहुत ही ट्रेडिशनल अंदाज में क्रिसमस मनाया जाता है। क्रिसमस के आस-पास आने वाले टूरिस्ट को यहां के चर्च का नजारा काफी लुभाता है। क्रिसमस पर यहां के सुंदर बीच के किनारे रेस्टोरेंट और भी अधिक खूबसूरत लगते हैं। टूरिस्ट मुख्य रूप से यहां जरूर खाना खाने आते हैं।



और भी पढ़ें :