ईसाइयों का पेंटेकोस्टल पर्व

good friday
पुनः संशोधित शनिवार, 22 मई 2021 (17:28 IST)
ईस्टर के बाद यानि प्रभु यीशु की मृत्यु के चालीस दिन बाद पवित्र आत्माओं के आगमन को पेंटकोस्ट के नाम से जाना जाता है। इस उत्सव को शरद ऋतु में मनाया जाता है। यहूदी लोग इस दौरान भगवान से फसलों और खेती के लिए धन्यवाद देकर दावत में भाग लेते हैं। इस बार 23-24 मई 2021 को यह त्योहार मनाया जाएगा।


पेंटेकोस्ट एक ईसाई त्योहार है जो ईस्टर रविवार के सातवें हफ्ते मनाया जाता है। चर्च ही इसे मनाता है। भारत में लगभग 1100 पेंटेकोस्ट चर्च हैं जो इस त्योहार को मनाते हैं। यह एक अगल ही समाज है जिसे प्रोटेस्टेंट समाज के अंतर्गत माना जाता है। प्रोटेस्टेंटों की रीतिया कैथोलिकों से भिन्न है। यह एक एक प्रोटेस्टेंट ईसाई आंदोलन है।

और ईसाई दोनों के अनुयायी पेंटेकोस्ट को मनाते हैं। पेंटेकोस्ट का पर्व इजरायल के तीन प्रमुख कृषि त्योहारों में से एक है और यहूदी वर्ष का दूसरा महान पर्व है। यहूदी पेंटेकोस्ट में दावत में भाग लेने के लिए यरूशलेम में एकत्रित होते हैं, उनके लिए यह फसल का त्योहार है। यहूदी पेंटेकोस्ट को शबोट या श्वूओट (द फैस्ट ऑफ वीक्स) नाम से भी जाना जाता है। ईसाई मानते हैं कि पवित्र सुसमाचार बताता है कि मृतकों में से उनके पुनरुत्थान के बाद, यीशु मसीह अपने शिष्यों के बीच चालीस दिनों तक रहे।

प्रेरितों के अध्याय 1 में, पुनर्जीवित यीशु को स्वर्ग में ले जाने से ठीक पहले, उसने चेलों को पवित्र आत्मा के पिता के दिए गए उपहार के बारे में बताया, जो जल्द ही उन्हें एक शक्तिशाली बपतिस्मा के रूप में दिया जाएगा। उसने उनसे कहा कि वे यरूशलेम में तब तक प्रतीक्षा करें जब तक उन्हें पवित्र आत्मा का उपहार नहीं मिलता, जो उन्हें दुनिया में जाने और उनके गवाह बनने के लिए सशक्त बनाता है।
पेंटेकोस्ट एक ईसाई त्योहार है। यह त्योहार ईस्टर के बाद सातवें रविवार (49 दिन) को मनाया जाता है। यह बाइबिल के प्रेरितों के अधिनियमों की पुस्तक में यरूशलेम में साप्ताहिक दावत के दौरान प्रेरितों और यीशु मसीह के अन्य अनुयायियों पर पवित्र आत्मा के वंश के स्मारक के रूप में वर्णित है। कुछ ईसाई मानते हैं कि यह घटना कैथोलिक चर्च के जन्म का प्रतीक है।



और भी पढ़ें :