रोजगार के अवसरों से भरा हुआ एडुटेक सेक्टर

Last Updated: सोमवार, 25 अक्टूबर 2021 (17:43 IST)
हमें फॉलो करें

संदीप भट्ट |
पिछले साल दुनिया ने कोरोना महामारी के दौरान लगातार लंबे लाकडाउन देखे। हमारे जीवन के लगभग प्रत्येक क्षेत्र पर इसका बहुत बुरा असर पड़ा। शिक्षा जगत पर इसका सबसे बुरा असर पड़ा। लाकडाउन के शुरूआती दौर में ऐसा लगा कि मानों पूरी दुनिया ही अपने घरों में कैद होकर रह गई है। अचानक से आए इस बदलाव से पूरी दुनिया में अफरा तफरी सी मच गई। लेकिन जल्द ही सूचना तकनीक ने जिंदगी को पटरी पर लाने का काम किया। घरों में बैठकर ही दफ्तरों के कामकाज होने लगे। वर्क फ्रॉम होम के साथ ही ऑनलाइन क्लासेज और कोचिंग ने सीखने सिखाने के क्षेत्र में भी रफ्तार कायम कर दी। बीते लगभग दो वर्षों में ऑनलाइन एजुकेशन के लिए अनेक स्टार्टअप आ गए हैं। बच्चे अब रोजाना घर पर बैठे-बैठे भी बहुत कुछ सीख रहे हैं। ब्लूम वेंचर्स एडटेक की एक हालिया रिर्पोट बताती है कि अगले दो-तीन सालों में देश का एडुटेक का बाजार 78000 करोड़ का हो जाएगा। ऐसे में इस क्षेत्र में

रोजगार और स्वरोजगार की अनगिनत संभावनाएं मौजूद हैं।

एडुटेक सेक्टर में दुनियाभर में खूब नौकरियां मिल रही हैं। कोविड के बाद भारत में भी तेजी से एजुकेशन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में तरक्की हुई है। लोगों में भी ऑनलाइन पढ़ने-लिखने की आदतें बढ़ी हैं। आए दिन मीडिया में खबरें आती हैं कि लाकडाउन में कोचिंग या स्कूल बंद होने के बाद किस तरह अनेकों लोगों ने इंटरनेट की सहायता से आलाइन
पढ़ाकर न सिर्फ अपने लिए नया काम खोजा बल्कि कई लोगों को नौकरियां भी दी हैं। भारतीय बाजार में अभी लगभग साढ़े चार हजार एजुकेशन स्टार्टअप्स की मौजूदगी है। निवेशकों ने इस तरह खूब रुझान दिखाया है। विशेषज्ञों का मानना है कि इस सेक्टर में सालाना 39 प्रतिशत की विकास दर बनी रह सकती है। इसलिए अगर आप करियर का कोई अच्छा विकल्प तलाश रहे हैं तो एडुटेक सेक्टर में खूब अवसर मौजूद हैं। आईए जानते हैं कि हम

खुद को किस तरह एडुटेक सेक्टर के लिए तैयार कर सकते हैं-

शिक्षण में रूचि- एडुटेक शब्द एजुकेशन और टेक्‍नोलॉजी से मिलकर बना है। यानी सीधे शब्दों में समझे तो तकनीक के जरिये पढ़ाने लिखाने का काम है। ऐसे में अगर आप इस क्षेत्र मेंकरियर तलाश रहे हैं तो इसके लिए शिक्षण में आपकी रूचि होनी जरूरी है। अपने विषय में पकड़ भी बहुत आवश्यक है। अगर आप स्कूली बच्चों के लिए काम करना चाहते हैं तो उनके विषयों पर ऑडियो-वीडियो कंटेंट तैयार कर सकते हैं या फिर आप उनके लिए ऑनलाइन क्लासेज तैयार करने का स्टॉर्टअप शुरू कर सकते हैं। शुरूआत किसी भी स्तर के विद्यार्थियों के लिए कर सकते हैं, बस जरूरत है कि संबंधित विषयों में आपकी तैयारी बहुत उम्दा हो।

संचार कौशल- संचार कौशल तो जीवन के हर क्षेत्र के लिए जरूरी है। हम किसी भी तरह का रोजगार करते हों, बिना संवाद और संचार के काम नहीं चल सकता। अब चूंकि यहां एडुटेकमें सबकुछ काम आनलाइन ही होता है, इसलिए जरूरी है कि आप अपने विद्यार्थियों को ध्यान में रखते हुए बेहतर संवाद और संचार कौशल बनाए रखें।

इंटरनेट और तकनीक की जानकारी- एडुटेक में काम करने के लिए तकनीक ही बुनियाद है। इस सेक्टर में काम करने वाले हर शख्स को तकनीक की जानकारी होना जरूरी है। अगर आप किसी एडुटेक कंपनी में काम करते हैं तो आपको ऑनलाइन टूल्स की जानकारी होनी चाहिए। यूट्यूब और अन्य प्लेटफार्म पर कैसे काम होता है यह भी आना जरूरी है। इसके साथ वीडियो बनाने से लेकर अपलोड करना या एडिट करना आना चाहिए। आज तमाम एप्लीकेशन मौजूद हैं जिनकी मदद से यह सब बहुत ही आसानी से सीखा जा सकता है।

सरल लेकिन अपडेट कंटेंट- कंटेंट यानी कि विषय-वस्तु। यह किसी भी ऑडियो-वीडियो कार्यक्रम की जान है। अच्छा और अपडेट कंटेंट आपको बाजार की प्रतिस्पर्धा में बनाए रखेगा।यह हमेशा ध्यान में रखें कि ऑनलाइन दुनिया में विकल्पों की कोई कमी नहीं और यहां कम्पिटीशन भी जबरदस्त है। जितनी तेजी से स्टार्टअप आते हैं उससे भी ज्यादा तेजी से बंद होते हैं। कारण कि वे खुद को बाजार की मांग के अनुरूप नहीं बनाए रख पाते हैं। इसलिए एडुटेक में भी टिकेगा वही जो छात्रों की डिमांड को समझते हुए कंटेंट अपडेट करेगा।

प्रजेंटेशन स्किल्स- आप खुद एक आनलाइन एज्युकेटर हों या आपकी टीम मिलकर काम कर रही हो, कंटेट को क्रिएटिव ढंग से प्रजेंट करना भी बहुत जरूरी है। इंटरैक्टिव तरीका सीखने
वालों को आपसे जोड़े रखने में बहुत अहम होता है। जो कुछ भी आप आनलाइन बता या सिखा रहे हों, टारगेट ऑडिएंस को ध्यान में रख कर प्रस्तुत करें। अपने प्लेटफार्म्स परविद्यार्थियों के लिए संवाद के अधिकतम विकल्प बनाए रखें। याद रखें जितना ज्यादा वे आपसे बात करेंगे, उतना ज्यादा उनका जुड़ाव आपके प्लेटफार्म्स से बढ़ेगा।


एडुटेक में काम करना बहुत आसान है लेकिन यहां बहुत मेहनत की जरूरत होती है। आज बायजूस, अपग्रेड, अनएकेडमी जैसे आनलाइन लर्निंग प्लेटफार्म को कौन नहीं जानता। इसके अलावा भी न जाने कितने यूट्यूबर्स हैं जो यूट्यूब पर पढ़ाकर ही अच्छा खासा कमा रहे हैं। इस सेक्टर में खासकर शुरुआत में तो सबसे अधिक ध्यान देना होता है। अगर आप एडुटेकसेक्टर में अपना नया कुछ काम करना चाहते हैं तो हो सकता है कि शुरू में आपको कम रिस्पांस मिले लेकिन अगर आपका तरीका हटकर है, कंटेंट दमदार है तो आप जरूर कुछ बेहतर कर सकते हैं। स्वयं का काम करने के लिए आपको मार्केटिंग स्किल्स भी जरूर आनी चाहिए।

जहां तक कमाई का सवाल है तो यह पूरी तरह आपके बिजनेस माडल पर निर्भर करेगी। एक बार अगर आपका काम चल निकला तो निवेशक भी मिल सकते हैं। याद रखिए कि साल 2020 तक हमारे देश में एडुटेक बिजनेस कुल 21 हजार करोड़ का था आने वाले दिनों मेंशिक्षा क्षेत्र और विस्तृत होगा। इसलिए रोजगार हो या स्वरोजगार एडुटेक में बेहतरीन करियर विकल्प मौजूद हैं।



और भी पढ़ें :