बुद्ध पूर्णिमा : गौतम बुद्ध के जन्म से जुड़ी 5 रोचक बातें

Gautam Buddha Purnima
Last Updated: सोमवार, 16 मई 2022 (12:57 IST)
हमें फॉलो करें
वैशाख माह की पूर्णिमा का भगवान का जन्म हुआ था। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार 16 मई 2022 को उनकी जयंती मनाई जाएगी। आओ जानते हैं उनके जन्म से जुड़ी 5 रोचक बातें।


1. गौतम बुद्ध का जन्म ईसा से 563 साल पहले नेपाल के तराई क्षेत्र में कपिलवस्तु और देवदह के बीच नौतनवा स्टेशन से 8 मील दूर पश्चिम में रुक्मिनदेई नामक स्थान है, जहां एक लुम्बिनी नाम का वन था। वहां उनका जन्म हुआ था।

2. गौतम बुद्ध के पिता कपिलवस्तु के राजा शुद्धोदन थे और उनकी माता का नाम महामाया था। कपिलवस्तु की महारानी महामाया देवी जब अपने नैहर कौलिया गणराज्य की राजधानी देवदह जा रही थीं, तो रास्ते में लुम्बिनी वन में ही उन्होंने बुद्ध को जन्म दिया।

3. गौतम बुद्ध का घने जंगल में दो साल के वृक्षों के बीच में हुआ था। कपिलवस्तु के निकट उत्तर प्रदेश के ककराहा नामक गांव से 14 मील और नेपाल भारत सीमा से कुछ दूर नेपाल के अंदर रुमिनोदेई नामक ग्राम ही लुब्बिनी ग्राम है। नौतनवा स्टेशन से 8 मील दूर पश्‍चिम में रुक्मिनदेई नामक स्थान पे पास उस काल में लुम्बिनी वन हुआ करता था।

4. बुद्ध के जन्म के बाद एक भविष्यवक्ता ने राजा शुद्धोदन से कहा था कि यह बालक चक्रवर्ती सम्राट बनेगा, लेकिन यदि वैराग्य भाव उत्पन्न हो गया तो इसे बुद्ध होने से कोई नहीं रोक सकता और इसकी ख्‍याति समूचे संसार में अनंतकाल तक कायम रहेगी।

5. बुद्ध के जन्म के 7 दिन बाद उनकी माता का देहांत हो गया तब उनकी मौसी गौतमी ने उनका लालन पालन किया और तब उनका जन्म नाम सिद्धार्थ रखा गया था।



और भी पढ़ें :