'मुंबई डायरीज 26/11' की सफलता पर निखिल आडवाणी बोले- बहुत अच्छा लग रहा है

पुनः संशोधित सोमवार, 13 सितम्बर 2021 (16:00 IST)
हमें फॉलो करें
अमेजन प्राइम वीडियो की मोस्ट अवेटेड 'रिलीज हो गई है। इस शो को शानदार समीक्षाएं मिल रही हैं और यह बिल्कुल भी आश्चर्य की बात नहीं है। अभिनय से लेकर पटकथा और निर्देशन तक सब कुछ शानदार रहा है।

निर्देशक निखिल आडवाणी ने अब एक कारण साझा किया है जो उनके अनुसार इस शो को सफल बनाने में महत्वपूर्ण रहा है। निखिल आडवाणी ने कहा, मुंबई डायरीज 26/11 को मिल रही प्रशंसा के लिए हम सभी बहुत खुश हैं। सभी के प्रयासों को दर्शकों से पहचान मिलते देखना बहुत अच्छा लग रहा है, खासकर जब यह एक ऐसी कहानी है जो मेरे दिल के बहुत करीब रही है।

उन्होंने कहा, दर्शक हर तरफ से सराहना के सुंदर संदेश भेजे जा रहे हैं और इस तरह की अभूतपूर्व प्रतिक्रिया प्राप्त करना बहुत ही सुखद अनुभव रहा है। उनकी प्रतिक्रियाओं ने शो को मस्ट-वॉच बना दिया है और मैं वास्तव में विनम्र महसूस कर रहा हूं।
जहां एक तरफ इस शो की तारीफ हो रही है वहीं ट्रेलर लॉन्च अपने आप में एक ग्रैंड अफेयर था। शो के ट्रेलर का अनावरण 'ताज गेटवे' पर गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में किया गया था और इस अवसर का जश्न मनाने के लिए फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं को ट्रिब्यूट दिया गया है।


मुंबई डायरीज़ 26/11 की कहानी 26/11 के हमलों की भीषण रात में डॉक्टरों के काल्पनिक जीवन पर आधारित एक शो है। कास्ट लाइनअप में कोंकणा सेन शर्मा के साथ मोहित रैना, श्रेया धनवंतरी, संदेश कुलकर्णी, सत्यजीत दुबे और प्रकाश बेलावाड़ी शामिल हैं।

निखिल आडवाणी द्वारा रचित और मोनिशा आडवाणी व एम्मे एंटरटेनमेंट के मधु भोजवानी द्वारा निर्मित यह मेडिकल ड्रामा निखिल गोंसाल्वेस के साथ निखिल आडवाणी द्वारा निर्देशित है। मुंबई डायरी 26/11 में डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक्स और अस्पताल के कर्मचारियों की अनकही कहानी को दर्शाया गया है, जिन्होंने 26 नवंबर 2008 में शहर को तबाह करने वाले आतंकी हमलों के दौरान जान बचाने के लिए अथक प्रयास किया था।

सीरीज में कोंकणा सेन शर्मा, मोहित रैना, टीना देसाई, श्रेया धनवंतरी, सत्यजीत दुबे, नताशा भारद्वाज, मृण्मयी देशपांडे और प्रकाश बेलावाड़ी जैसे प्रतिभाशाली कलाकारों की टोली नज़र आ रही है। मुंबई डायरीज़ 26/11 एक काल्पनिक मेडिकल ड्रामा है जो उस भयानक, अविस्मरणीय रात पर स्थापित है, जिसने एक तरफ शहर को तबाह कर दिया, लेकिन दूसरी तरफ अपने लोगों को एकजुट किया और किसी भी विपदा का डटकर मुकाबला करते हुए खड़े होने के उनके संकल्प को मजबूत किया।



और भी पढ़ें :