0

रणबीर कपूर : 25 रोचक जानकारियां

सोमवार,सितम्बर 27, 2021
0
1
जेम्स बांड एक काल्पनिक ब्रिटिश सीक्रेट सर्विस एजेंट हैं। ब्रिटिश पत्रकार और लेखक इयान फ्लेमिंग ने 1952 में जेम्स बांड का किरदार रचकर उपन्यासों की रचना की। 1964 में फ्लेमिंग की मौत के बाद अन्य लेखकों ने जेम्स बांड के किरदार के कारनामों पर आधारित अन्य ...
1
2
देव आनन्द के सिनेमा का सबसे सुखद पहलू यह है कि उनकी फिल्में मनोरंजन और सिर्फ मनोरंजन करती हैं। उनमें गीत हैं, संगीत है, जीवन का उल्लास है और एक आशावादी दृष्टिकोण। उन्होंने अपनी बॉडी लैंग्वेज/रहन-सहन/चाल-ढाल/पोशाक और हावभाव के जरिये आजाद भारत के ...
2
3
पूरी तरह से भारतीय होने के बावजूद अभिनेता-निर्देशक फिरोज खान की जीवनशैली और परदे पर उनका कैरेक्टर हॉलीवुड के काउबॉय स्टाइल का रहा है। फिरोज खान हॉलीवुड अभिनेता क्लिंट ईस्टवुड से इतने अधिक प्रभावित थे कि अपने को बॉलीवुड का ईस्टवुड समझते थे। सत्तर के ...
3
4
तनूजा : दूसरी पंक्ति में खड़ी प्रथम दर्जे की अदाकारा: माँ शोभना समर्थ और दीदी नूतन की छोटी बहन और काजोल की माँ तनूजा एक प्रतिभाशाली अभिनेत्री होते हुए भी पीछे धकेल दी गई। आज वे काजोल-तनीषा की माताश्री और अजय देवगन की सास के रूप में हमारे बीच मौजूद ...
4
4
5
रितिक रोशन बतौर बाल कलाकार अपने पिता राकेश रोशन की कुछ फिल्में कर चुके थे। थोड़े बड़े हुए तो राकेश ने उन्हें अपना सहायक बना लिया। जब लगा कि उम्र हीरो बनने लायक हो गई है तो 1998 में राकेश रोशन ने उनको लेकर फिल्म 'कहो ना प्यार है' की प्लानिंग बनाई। नए ...
5
6
अमिताभ बच्चन जहां उत्तर भारत या हिंदी फिल्मों के सुपरस्टार थे तो रजनीकांत और कमल हासन के नाम का डंका दक्षिण भारतीय फिल्मों में बजता था। इन तीनों को लेकर 'गिरफ्तार' नामक फिल्म बनाई गई थी जो 13 सितम्बर 1985 को रिलीज हुई थी। जब यह फिल्म बनाने की घोषणा ...
6
7
सनी देओल और राहुल रवैल ने बतौर अभिनेता और निर्देशक कई फिल्में साथ की हैं। जिसमें से एक बेहतरीन फिल्म है 'अर्जुन' जो 1985 में रिलीज हुई थी। यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर खास सफल नहीं हुई थी, लेकिन बाद में इसे खूब देखा और सराहा गया। यहां तक कि इस मूवी के ...
7
8
अक्षय कुमार को खिलाड़ी कुमार भी कहा जाता है क्योंकि एक दौर में उनकी 'खिलाड़ी' सीरिज की फिल्में बेहद सफल रही थी। यह खिलंदड़ किस्म का इंसान इश्क के मैदान का भी खिलाड़ी रहा है और हसीनाओं के दिल चुराया करता था।
8
8
9
अक्षय कुमार का वास्तविक नाम राजीव हरीओम भाटिया है। अक्षय कुमार ताइक्वांडो में ब्लैक बेल्ट हैं। मुंबई आकर अक्षय मार्शल आर्ट्स का प्रशिक्षण देने लगे। उनके एक विद्यार्थी ने, जो कि एक फोटोग्राफर था, अक्षय को कहा कि वे दिखने में हैंडसम हैं और उन्हें ...
9
10
1) 8 सितम्बर 1933 को जन्मी आशा भोसले ने 1943 से अपना करियर शुरू किया और तब से वे अब तक लगातार गा रही हैं। 2) हिंदी फिल्मों में उन्होंने गायन की शुरुआत 1948 में रिलीज हुई फिल्म चुनरिया से की थी। हंसराज बहल के संगीत निर्देशन में उन्होंने 'सावन आया' ...
10
11
ऋषि कपूर 'बॉबी' की शूटिंग के दौरान डिम्पल को पसंद करने लगे थे। प्रपोज करने वाले थे, लेकिन....। पहली बार वे फिल्म 'श्री 420' में नजर आए थे। अपनी शादी में नीतू सिंह बेहोश हो गई थीं।
11
12
अफगानिस्तान और उसके बाशिंदों की झलक हिंदी फिल्मों में देखने को मिलती रही है। अफगानिस्तान का पठान ऐसा किरदार रहा है जिसका बॉलीवुड वालों ने समय-समय पर उपयोग किया है। पठान, यानी कि 6 फीट से भी ज्यादा ऊंचा, हट्टा-कट्टा आदमी। जो एक अलग ही लहजे में हिंदी ...
12
13
शोले भारत की सफलतम फिल्मों में से एक है। इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर पैसों की बरसात कर दी थी। गली-गली फिल्म के संवाद गूंजे। पक्के दोस्तों को जय-वीरू कहा जाने लगा तो बक-बक करने वाली लड़कियों को बसंती की उपमा दी जाने लगी। मांओं ने अपने छोटे बच्चों को ...
13
14
सुनील शेट्टी 11 अगस्त 2021 को 60 साल के हो गए। 1992 में 'बलवान' फिल्म से उन्होंने कदम रखा था। हिंदी, तमिल, तेलुगु, कन्नड़, मलयालम, मराठी और अंग्रेजी फिल्म वे कर चुके हैं। जब फिल्मों में आए थे तो कहा गया था कि वे अभिनय नहीं जानते। लंबा नहीं चल ...
14
15
5 अगस्त 1974 को जन्मी काजोल ने जब अपनी पहली फिल्म 'बेखुदी' साइन की तब वे 16 साल की थीं और स्कूल में पढ़ाई कर रही थीं। उन्होंने फिल्मों में करियर बनाने के लिए स्कूल छोड़ दिया।
15
16
बहुमुखी प्रतिभा के धनी किशोर कुमार का 4 अगस्त को जन्मदिवस है। गायक, संगीतकार, अभिनेता, निर्माता, लेखक जैसे किशोर के कई रूप हमें देखने को मिले। संगीत की बिना तालीम हासिल किए जिस तरह से उन्होंने फिल्म संगीत जगत में अपना स्थान बनाया वह तारीफ के काबिल ...
16
17
आज के मैनेजमेंट गुरू लाखों रुपये फीस लेकर सफलता के चंद फण्डे बतलाते हैं, उन्हें अभिनेत्री मुमताज ने पचास और साठ के दशक में अपने बलबूते आजमाकर शिखर पर जा बैठी थी। मैनेजमेंट गुरु के रटे रटाये फण्डे होते हैं- काम के प्रति समर्पण की भावना। कठोर परिश्रम ...
17
18
मुंबई। आवाज की दुनिया के बेताज बादशाह मोहम्मद रफी को पार्श्वगायन करने की प्रेरणा एक फकीर से मिली थी। पंजाब के कोटला सुल्तान सिंह गांव में 24 दिसंबर 1924 को एक मध्यमवर्गीय मुस्लिम परिवार में जन्मे रफी एक फकीर के गीतों को सुना करते थे जिससे उनके दिल ...
18
19
हिंदी फिल्मों के महानतम पार्श्व गायकों में शुमार मोहम्मद रफी ने केवल 13 बरस की उम्र में अपने जीवन का पहला स्टेज शो किया और इस बात से बहुत कम लोग वाकिफ होंगे कि मोहम्मद रफी ने अपने समकालीन अभिनेताओं के अलावा बेहतरीन गायक किशोर कुमार के लिए भी पार्श्व ...
19