कैसे निपटेंगी सनी लियोन इस 'लोचे' से?

एक पहेली लीला की कामयाबी के बाद बॉलीवुड वाले कुछ कुछ लोचा है की सफलता तय मान कर चल रहे थे, लेकिन की यह फिल्म इतनी बुरी तरह पिट गई कि फिल्म से जुड़े लोगों को अच्छा खासा नुकसान उठाना पड़ा। फिल्म को लागत वसूलने के लिए सिर्फ 15 करोड़ रुपये का व्यवसाय करना था, लेकिन यह रकम भी फिल्म वसूल नहीं हो पाई। कई सिनेमाघर मालिकों को दर्शकों के अभाव में सात दिन तक फिल्म को जबरदस्ती चलाना पड़ा क्योंकि उनके पास अन्य फिल्में नहीं थी। कुछ ने पुरानी फिल्मों का सहारा लिया। 
कैसे निपटेंगी सनी लियोन इस 'लोचे' से?
काम नहीं आया सनी का नाम
इसमें कोई दो राय नहीं है कि फिल्म खराब थी और इसलिए इसका पर सफल होना मुश्किल था, लेकिन फिल्म को ओपनिंग तक नहीं लगी। यानी कि सनी का नाम देख कर भी ‍दर्शकों ने टिकट नहीं खरीदे। फिल्म का बजट इतना कम था कि पहले वीकेंड पर अच्छी ओपनिंग ही इस फिल्म को सुरक्षित कर देती और इसी को देखते हुए यह दांव खेला गया था जो उल्टा पड़ गया। 
 
उतार पर सनी का जादू
कुछ कुछ लोचा है कि नाकामयाबी दिखाती है कि दर्शकों की रूचि सनी लियोन में घट रही है। आखिर हर फिल्म में अंग प्रदर्शन कर वे कितने दिनों तक दर्शकों को बांध सकती है। एक महत्वपूर्ण कारण यह भी है कि एक पहेली लीला और कुछ कुछ लोचा है में बमुश्किल एक महीने का अंतर था। इतने कम अंतर में किसी कलाकार की दो फिल्मों का रिलीज होना जोखिम भरा रहता है। दोनों फिल्मों में गैप रहता तो शायद यह बेहतर होता। संभव है कि इसी कारण सनी की फिल्म 'मस्तीजादे' की रिलीज आगे बढ़ा दी गई है। हालांकि यह भी सुनने में आया है कि फिल्म की रिलीज अन्य कारणों से भी आगे टाल दी गई है। 
 
सनी में कम हुआ विश्वास
बहरहाल कुछ कुछ लोचा की नाकामयाबी के कारण फिल्म निर्माताओं का विश्वास सनी लियोन में कम हुआ है। साथ ही सेंसर की सख्ती के कारण उन निर्माताओं ने भी सनी को लेकर फिल्म बनाने के इरादे को त्याग दिया है जो सनी के गरमा-गरम सीन के जरिये बॉक्स ऑफिस पर सफलता का सपना देख रहे थे। सनी को इन लोचों पर सोचने की जरूरत है। 



और भी पढ़ें :