बिग बी का भय!

Amitabh
IFM
इन दिनों अमिताभ अपने पूरे परिवार के साथ स्टेज कार्यक्रम देने के लिए विश्व यात्रा पर है। कार्यक्रम शुरू होने के पहले ही सामान गुम होने की परेशानियों से अमिताभ घिर गए थे। यह एक सामान्य समस्या है, लेकिन बिग-बी को इसमें साजिश नजर आ रही है।

बिग-बी ने अपने ब्लॉग में लिखा है कि उन्हें शक है कि कोई उनके कार्यक्रम को बिगाड़ने की कोशिश कर रहा है। संभवत: अमिताभ को यह लग रहा है कि फिल्म उद्योग का ही कोई व्यक्ति यह कर रहा है। इसमें उन्हें मीडिया का भी कुछ हिस्सा शामिल नजर आ रहा है।

बॉलीवुड के अधिकांश नायक असुरक्षा की भावना से घिरते जा रहे हैं। गोविंदा तो अरसे से इस बीमारी का शिकार है कि कोई उन्हें नुकसान पहुँचाना चाहता है। मार डालना चाहता है। आए दिन शूटिंग के दौरान इस वजह से वो अजीबोगरीब हरकतें करते रहते हैं।

अक्षय कुमार को भी अंदेशा है कि बॉलीवुड में कुछ लोग उनके खिलाफ हैं और उनके बारे में अफवाहें फैलाते रहते हैं। उनकी फिल्म और सफलता को उतना महत्व नहीं देते, जितना कि अन्य को।

कुछ दिनों पहले तक बॉलीवुड वाले एक बड़े परिवार की तरह रहते थे। उनमें प्रतिस्पर्धा थी, लेकिन स्तरहीन नहीं। गलाकाट प्रतियोगिता में किसी भी स्तर तक जाने की बात ने बॉलीवुड में भी प्रवेश कर लिया। अब बॉलीवुड खेमों में बंटा नजर आता है। आमिर खान को लेकर करण जौहर फिल्म नहीं बनाते तो शाहरुख खान को लेकर रामगोपाल वर्मा।

ऐश्वर्या को अपनी बहू बनाने के बाद बिग बी को लगता है कि उन्होंने आधे से ज्यादा लोगों से दुश्मनी मोल ले ली है। पिछले दिनों एक म्यूजि़क रिलीज़ पार्टी में वे सलमान का सामना नहीं करना चाहते थे। शाहरुख से उनकी अहं की लड़ाई चल रही है और आमिर से भी मधुर संबंध नहीं है।

खान तिकड़ी में भी घमासान मची हुई है। शर्ट की सफेदी की तर्ज पर वे अपना टीवी शो दूसरे के मुकाबले में हिट बता रहे हैं। जबकि दोनों ही शो असफल हैं।

मीडिया भी कम दोषी नहीं है। हर कलाकार के कुछ खास पत्रकार दोस्त हैं, जो उनकी बातें प्रमुखता से प्रकाशित करते रहते हैं। अपने आकाओं के प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ दुष्प्रचार करने का काम भी उनके ही जिम्मे होता है।

परदे पर बहादुर दिखने वाले ये नायक सफलता को लेकर भयाक्रांत हैं। उन्हें डर है सफलता के छिन जाने का। दूसरे की सफलता उन्हें खाए जा रही है। किसी अखबार या वेबसाइट पर उनको लेकर कोई आलोचनात्मक खबर प्रकाशित होती है तो उन्हें लगता है कि यह उनके प्रतिद्वंद्वी नायक का काम है। यह भय उतना भयानक नहीं है, जितना वे समझ रहे हैं। रस्सी को साँप समझकर वे डर रहे हैं।

समय ताम्रकर|
हमें फॉलो करें
अपनी प्रतिभा पर उन्हें विश्वास नहीं रहा है, इसलिए वे एक-दूसरे को नीचा दिखाने की हरकत कर रहे हैं। फिलहाल तो बिना नाम लिए वे आरोप लगा रहे हैं, हो सकता है कि आने वाले दिनों में राजनीति की ओछी हरकतें बॉलीवुड में भी शुरू हो जाए।



और भी पढ़ें :