ईशा : ‘खल्लास गर्ल’ से छुटकारा पाने की कोशिश

Isha
IFM
बॉलीवुड में एक गलती भी बहुत भारी पड़ जाती है, खासतौर पर यदि वह करियर के आरंभ में की गई हो। इसकी मिसाल है।

ईशा अपनी पहली फिल्म ‘एक था दिल एक थी धड़कन’ में उलझी रही, जिसे बनने में खूब समय लगा। परेशान ईशा ने ‘काँटे’ और ‘कंपनी’ जैसी फिल्मों में आयटम नंबर कर लिए। ‘कंपनी’ का आयटम नंबर बहुत हिट हुआ और ‘खल्लास गर्ल’ का नाम ईशा को मिला।

निर्माता-निर्देशक ईशा की तरफ आयटम सांग के प्रस्ताव लिए दौड़ पड़े। ईशा की मंजिल नायिक बनने की थी और उन्होंने सभी प्रस्तावों को ठुकरा दिया। खल्लास गर्ल की इमेज से छुटकारा पाने के लिए उन्होंने जल्दबाजी में कुछ गलत फिल्में साइन कर लीं और उनके करियर में ठहराव आ गया।

बड़े बैनरों की फिल्मों में महत्वहीन भूमिकाएँ उन्हें मिलीं, लेकिन ‘खल्लास गर्ल’ की इमेज से अब तक छुटकारा उन्हें नहीं मिला। ईशा ने हिम्मत नहीं हारी और अपना संघर्ष जारी रखा। ईशा अब जाकर यह कहने की स्थिति में हैं कि उनके पास कुछ ऐसी फिल्में हैं, जिनके जरिए उनके करियर में सुखद मोड़ आ सकता है। इन फिल्मों के जरिए उनके पास अपने आपको एक उम्दा अभिनेत्री साबित करने का अवसर है।

राजश्री प्रोडक्शन की ‘एक विवाह ऐसा भी’ के रूप में ईशा को एक बेहतरीन मौका मिला है। राजश्री प्रोडक्शन बॉलीवुड में एक प्रतिष्ठित बैनर है और उनके द्वारा निर्मित फिल्म में काम करना हर नायिका का सपना होता है। ईशा इस फिल्म में सोनू सूद की नायिका बनी हैं। ईशा को पूरा विश्वास है कि इस फिल्म के जरिए लोगों के विचार उनके बारे में बदल जाएँगे।

‘राइट या राँग’ और ‘शबरी’ जैसी दो महत्वपूर्ण फिल्में भी ईशा की जल्दी प्रदर्शित होने वाली हैं। ‘राइट या राँग’ का निर्देशन नीरज पाठक कर रहे हैं और इसमें वे सनी देओल के साथ काम कर रही हैं। वहीं ‘शबरी’ फिल्म का निर्माण रामगोपाल वर्मा ने किया है।

‘शबरी’ को पूरा हुए एक लंबा समय बीत चुका है, लेकिन यह फिल्म कब प्रदर्शित होगी इस बारे में रामगोपाल वर्मा ही जानते हैं। ईशा इस फिल्म में डाकू बनी हैं और पूरी फिल्म उनके इर्दगिर्द घूमती है। इन फिल्मों के अलावा कई फिल्मों में ईशा संक्षिप्त भूमिकाएँ निभा रही हैं।

ईशा को अपने आने वाले समय से बेहद आशाएँ हैं और वे उस दिशा में पूरा प्रयत्न कर रही हैं। ईशा की कामयाबी इन फिल्मों कामयाबी से जुड़ी हुई है। वे एक अच्छी अभिनेत्री हैं, लेकिन बॉलीवुड में सफल व्यक्ति को ही अच्छा कलाकार माना जाता है।
समय ताम्रकर|
हमें फॉलो करें



और भी पढ़ें :