वर्ष 2009 : अभिनेत्रियों का स्कोर कार्ड

समय ताम्रकर|
(न्यूयॉर्क, ब्लू, अजब प्रेम की गजब कहानी, दे दना दन)

कैटरीना कैफ और सफलता एक-दूसरे के पर्याय बन गए हैं। दना-दन सफल फिल्में वे दे रही हैं। अब तक शो-पीस कही जाने वाली कैटरीना ने अभिनेत्री के रूप में भी अपनी धाक जमाई है। ‘न्यूयॉर्क’ में उनके अभिनय की सराहना हुई। ‘अजब प्रेम की गजब कहानी’ में रणबीर कपूर के साथ उनकी कैमेस्ट्री को खूब पसंद किया गया। सलमान से दूरी और रणबीर से नजदीकी के उनके किस्से वर्ष भर उड़ते रहे।
प्रियंका चोपड़ा (व्हाट्स योअर राशि, कमीने, बिल्लू)
सफलता तो इस वर्ष प्रियंका को नहीं मिली, लेकिन इससे उनकी स्टार वैल्यू में रत्ती भर भी फर्क नहीं पड़ा। उनके अभिनय की जितनी प्रशंसा इस वर्ष हुई, शायद ही पहले कभी हुई हो। ‘व्हाट्स योअर राशि’ में प्रियंका शो देखने को मिला, जिसमें उन्होंने 12 भूमिकाओं को सफलतापूर्वक निभाया। ‘कमीने’ की स्वीटी ने सभी का दिल जीत लिया। ‘बिल्लू’ में शाहरुख की खातिर उन्होंने एक गाना कर लिया।

(कुर्बान, मैं और मिसेस खन्ना, कम्बख्त इश्क, बिल्लू, 3 इडियट्स)

ये करीना का ही कमाल है कि लगातार फ्लॉप फिल्म देने के बावजूद वे अपनी कीमत बढ़ाती जा रही हैं और उनका दबदबा भी बना हुआ है। ‘मैं और मिसेस खन्ना’ जैसी वर्ष की सबसे फ्लॉप फिल्मों में से एक उनके नाम है। ‘कुर्बान’ में उन्होंने खुली पीठ दिखाई, लेकिन दर्शकों ने फिल्म को ठेंगा दिखा दिया। ‘कमबख्त इश्क’ के चुंबन सीन भी फिल्म को बचा न सके। बावजूद इसके बेबो का करिश्मा जारी है। वर्ष के अंत में '3 इडियट्स' के जरिये उन्होंने सफलता का स्वाद चखा। फिल्म में भले ही उनका रोल छोटा हो, लेकिन अभिनय काबिल-ए-तारीफ है।
रानी मुखर्जी (दिल बोले हडिप्पा)
दर्शकों को रिझाने के लिए रानी ने शाहिद कपूर जैसे नए छोकरे के साथ जोड़ी जमाई। क्रिकेट खेला। भाँगड़ा किया। सरदार बनी। लेकिन दर्शकों का दिल हडिप्पा नहीं बोला। रानी के पास फिल्में नहीं के बराबर हैं। लगता है कि नई हीरोइनों से यह रानी मात खा गई है।
प्रिटी जिंटा (विदेश, मैं और मिसेस खन्ना)
स्टुडियो और स्टेडियम दोनों जगह प्रिटी को मात खानी पड़ी। नेस वाडिया ने साथ छोड़ दिया तो वे लंबा ब्रेक लेकर विदेश चली गई। ‘विदेश’ फिल्म को असफलता का मुँह देखना पड़ा। ‘मैं और मिसेस खन्ना’ जैसी फिल्म में उन्हें एक गाना इसलिए करना पड़ा ताकि निर्माता-निर्देशकों का ध्यान उन पर जाए।
बिपाशा बसु (आ देखें ज़रा, ऑल द बेस्ट)
‘आ देखें ज़रा’ देख दर्शकों ने कहा ‘इसमें दम नहीं जरा’। नील नितिन मुकेश के साथ उनकी जोड़ी फ्लॉप रही। ‘ऑल द बेस्ट’ के रूप में आंशिक सफलता बिपाशा को मिली। बिपाशा अभी अभिनय छोड़ने के मूड में नहीं हैं और शादी वे दो वर्ष बाद करना चाहती हैं।



और भी पढ़ें :