भारतीय सिनेमा के सौ साल : टॉप 10 मेल स्टार

दिलीप कुमार
समय ताम्रकर|

दिलीप कुमार

PR

दिलीप कुमार को अभिनय सम्राट कहा जाता है। वे इतने परफेक्शनिस्ट हैं कि यदि फिल्म में गिटार बजाना हो तो वे पहले गिटार बजाना सीखते हैं। ज्वार भाटा (1944) से उन्होंने अपना करियर शुरू किया और इसके बाद पलटकर कभी नहीं देखा। दिलीप कुमार के अभिनय की शैली का असर कई अभिनेताओं पर देखा जाता रहा है। गुणवत्ता के प्रति दिलीप कुमार का विशेष आग्रह रहा है और अपने लंबे करियर में उन्होंने बेहद कम फिल्में की हैं।




और भी पढ़ें :