Honda की कारों में मिला यह खास एंटीवायरस केबिन एयर-फिल्टर, जानें कैसे करता है काम

पुनः संशोधित मंगलवार, 19 अक्टूबर 2021 (17:23 IST)
नई दिल्ली। प्रीमियम कारों की विनिर्माता कंपनी इंडिया लिमिटेड (एचसीआईएल) अब अपनी कारों में नवीन एंटीवायरस केबिन एयर-फिल्टर को लांच किया, जो हानिकारक कीटाणु, एलर्जी पैदा करने वाले पदार्थों और यहां तक कि वायरस की एक बड़ी रेंज को पकड़ने में प्रभावी है जिनसे स्वास्थ्य संबंधी प्रमुख समस्याएं पैदा हो सकती हैं।
कंपनी ने कहा कि होंडा एंटीवायरस केबिन एयर-फिल्टर को प्रौद्योगिकी समूह फ्रुडेनबर्ग के साथ मिलकर डेवलप किया गया है, जो भविष्य के खोजों के माध्यम से ग्राहकों और समाज को मजबूत बनाता है। इसकी स्टैंडर्ड होंडा पोलेन फिल्टर के ऑप्शन और होंडा की वास्तविक नई एक्सेसरी के रूप में पेशकश की गई है।

यह नया केबिन एयर फिल्टर वायरल एरोसोल की संख्या को खासा घटाकर सक्रिय सुरक्षा उपलब्ध कराता है। यह विशेष मल्टी लेयर डिजाइन में बनाया गया है जो हानिकारक पर्यावरणीय गैसों के साथ ही अकार्बनिक और जैविक कणों व एरोसोल को प्रभावी रूप से पकड़ता है, फिल्टर करता है और उनका खात्मा कर देता है।
होंडा एंटीवायरस केबिन एयर फिल्टर के बारे में वाहन के केबिन में संक्रमण संबंधी जोखिम घटाने के क्रम में, सामान्य रूप से ताजा हवा की आपूर्ति बढ़ाने की सिफारिश की जाती है क्योंकि इससे एरोसोल्स की संख्या घटती है। रि-सर्कुलेशन मोड में, हवा से वायरसों को हटाना काफी हद तक फिल्टरेशन सिस्टम और एयर एक्सचेंज रेट की क्षमता पर निर्भर करता है।

लीफ एक्सट्रैक्ट के सक्रिय पदार्थ से युक्त पहली माइक्रोफाइबर बायो-फंक्शनल लेयर अलर्जी पैदा करने वाले पदार्थों के साथ ही बैक्टीरिया को प्रभावी रूप से निष्क्रिय करती है और उन्हें केबिन की हवा में जाने से रोकता है। केबिन एयर-फिल्टर की अन्य लेयर अधिकांश वायरसों, बेहद सूक्ष्म एरोसोल, धूल और पोलेन को पकड़ती हैं, वहीं सक्रिय कार्बन से बनी लेयर हानिकारक अम्लीय गैसों, पीएम2.5 जैसे प्रदूषकों और कणों को सोखने के लिए जवाबदेह है।



और भी पढ़ें :