आज के मुहूर्त (31.12.2009)

गुरुवार, 31 दिसंबर 2009

WD
शुभ विक्रम संवत- 2066, शालिवाहन शक संवत- 1931, संवत्सर का नाम- शुभकृत, अयन- दक्षिणायन, ऋतु- शिशिर, मास- पौष, पक्ष- शुक्ल, तिथि- पूर्णिमा रात्रि 24.43 पश्चात प्रतिपदा, हिजरी सन- 1431, मु. मास- मोहर्रम, तारीख-14, नक्षत्र- मृगशिरा प्रात: 09.20 पश्चात आर्द्रा मंगलरात्रि 30.42 पश्चात पुनर्वसु, योग- ब्रह्मा रात्रि 25.58 पश्चात ऐंद्र, सूर्योदयकालीन करण- विष्टि, चन्द्रमा- मिथुन राशि में रहेंगे।

ग्रह योग- चंद्र ग्रहण।

दिन- सामान्य।

दिशाशूल- दक्षिण दिशा में।

मुहूर्त- रुद्राक्ष धारण मुहूर्त (ग्रहण काल में)।

दिन का पर्व- शाकंभरी पूर्णिमा, माघ स्नानारंभ, चंद्र ग्रहण।

कार्य की अनुकूलता के लिए- ग्रहण काल में साधना करें।

उपयोगी ज्ञान - वृषभ राशि वाले जातक को लाल रंग के मोबाइल का उपयोग नहीं करना चाहिए।

शुभ समय - ग्रहण सूतक प्रारंभ दिन 3.22 मिनट से। ग्रहण प्रारंभ मध्यरात्रि दिनांक 1 के प्रारंभ में 12.22 मिनट पर, ग्रहण का मध्य (दिनांक 1 के प्रारंभ में) - 12 बजकर 53 मिनट पर। ग्रहण का मोक्ष (दि. 1) के मध्यरात्रि 1.24 मिनट पर। पर्व काल 1 घंटा 2 मिनट पर।

WD|
आज आपका दिन मंगलमयी रहे यही शुभकामना है। वेबदुनिया प्रस्तुत कर रही है खास आपके लिए आज के दिन के विशिष्ट मुहूर्त। अगर आप आज वाहन खरीदने का विचार कर रहे हैं या आज कोई नया व्यापार आरंभ करने जा रहे हैं तो आज के में ही कार्य करें ताकि आपके कार्य सफलतापूर्वक संपन्न हो सके। एवं धर्म की दृष्टि से इन मुहूर्त का विशेष महत्व है। मुहूर्त और चौघड़िए के आधार पर वेबदुनिया आपके लिए प्रतिदिन के खास मुहूर्त की सौगात लेकर आई है। प्रस्तुत है आज के मुहूर्त
सुझाव- यदि संभव हो तो दिन 01.49 से 03.10 के मध्य महत्वपूर्ण कार्यों से वंचित रखें।



और भी पढ़ें :