0

अगर आपके कोई गुरु नहीं हैं तो जानिए किसे बनाएं अपना गुरु, कैसे करें पूजन

शुक्रवार,जुलाई 23, 2021
0
1
गुरु को परमात्मा से प्रथम पूज्य माना गया है। गुरु के बिना ज्ञान की प्राप्ति नहीं हो सकती। गुरु आशीर्वाद प्राप्ति के लिए अपने जन्म लग्न-अनुसार आराधना कीजिए। पढ़ें 12 लग्न के 12 मंत्र-
1
2
श्रावण मास शिव का प्रिय त्योहार है, इस पूरे माह भगवान शिव प्रसन्न रहते हैं और भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करते हैं..सफलता, प्रसन्नता और संपन्नता के शुभ आशीष देते हैं....
2
3
इस माह में शास्त्र अनुसार ही व्रतों का पालन करना चाहिए। संपूर्ण माह नहीं रख सकते हैं तो सोमवार सहित कुछ खास दिनों व्रत का पालन अवश्य करें।
3
4
कोरोना काल में औढरदानी, प्रलयंकारी, भगवान शिवशंकर श्री महाकालेश्वर से क्षमा प्रार्थना करना चाहिए कि अखिल सृष्टि प प्रसन्न होकर प्राणी मात्र का कल्याण करें -
4
4
5
इस वर्ष 23 जुलाई से शुरू होकर 24 जुलाई तक गुरु पूर्णिमा मनाई जाएगी। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार आषाढ़ मास की पूर्णिमा को आषाढ़ी पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा कहा
5
6
23 जुलाई 2021 को गुरु पूर्णिमा मनाई जा रही है। जब गुरु पूर्णिमा पर आप अपने गुरुजी का आशीर्वाद लेने जाएं, तब उनका पूजन करके अपनी राशि अनुसार भेंट दें, तो आपको उनका आशीर्वाद निश्चित रूप से फलेगा।
6
7
धार्मिक शास्त्रों के अनुसार आषाढ़ मास की पूर्णिमा को आषाढ़ी पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा कहा जाता है। इस दिन पवित्र नदी में स्नान तथा दान-पुण्य करने का महत्व बताया गया है। इस वर्ष शुक्रवार, 23 जुलाई 2021 को पूर्णिमा तिथि प्रारंभ होगी और शनिवार, 24 जुलाई ...
7
8
श्रावण मास में भगवान भोलेनाथ की पूजा, अर्चना, भक्ति करने से अनन्य फल की प्राप्ति होती है, पृथ्वी पर 12 ज्योतिर्लिंग हैं.. 12 ही राशि और 12 ही लग्न हैं। जन्म लग्न और राशि के अनुसार शिव पूजा करना शुभ फलदायी होता है।
8
8
9
अंग्रेजी कलैंडर के अनुसार इस बार श्रावण मास में 25 जुलाई रविवार से पंचक शुरू हो जाएगा जो 30 जुलाई 2021 को समाप्त होगा। रविवार से प्रारंभ होने वाले पंचक को रोग पंचक कहते हैं। प्रत्येक वार से प्रारंभ होने वाले पंचक का नाम अलग होता है। आओ जानते हैं इस ...
9
10
मंगल ने सिंह राशि में प्रवेश किया है, 6 सितंबर 2021 तक मंगल इसी राशि में विराजमान रहेंगे। आइए जानते हैं मंगल ग्रह के राशि परिवर्तन से किस राशि को क्या फल मिल सकता है...
10
11
किसी दीपक को जलाकर देव स्थान पर रखकर आना या उन्हें नदी में प्रवाहित करना दीपदान कहलाता है। आओ जानते हैं कि कैसे और क्यों नदी में दीप प्रवाहित करते हैं और क्या है इसके फायदे।
11
12
Raksha Bandhan 2021 Date : जुलाई के आते ही त्योहार आरंभ हो जाते हैं.....विशेषकर राखी का पर्व सबका प्रिय होता है और श्रावण लगते ही इस शुभ दिन का इंतज़ार शुरू हो जाता है....साल 2021 में रक्षाबंधन का शुभ दिन कब आ रहा है आइए जानते हैं....
12
13
हिन्दू पंचांग के अनुसार, आषाढ़ मास का प्रदोष व्रत 21 जुलाई बुधवार को है। यह बुध प्रदोष व्रत इंद्र योग में होगा। प्रदोष और चतुर्दशी का व्रत भगवान शिव के लिए किया जाता है। शिव आराधना से होती है सभी तरह की मनोकामनापूर्ण।
13
14
हिन्दू कैलेंडर के अनुसार फाल्गुन माह अंतिम माह होता है इसके बाद चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़ और फिर श्रावण मास। इस बार श्रावण माह का प्रारंभ अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 25 जुलाई 2021 रविवार हो होगा और 26 जुलाई को सावन का पहला सोमवार रहेगा। 22 अगस्त ...
14
15
21 जुलाई 2021 बुधवार को वामन द्वादशी है। चैत्र शुक्ल पक्ष की द्वादशी के दिन वामन द्वादशी का व्रत रखा जाता है इसके बाद आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी को भी वामन द्वादशी का पर्व मनाया जाता है। आओ जानते हैं इस संबंध में 10 खास बातें।
15
16
हिन्दू माह का चौथा माह होता है आषाढ़ माह। इस माह की शुक्ल एकादशी से चातुमास प्रारंम हो जाते हैं। आषाढ़ी एकादशी के दिन से चार माह के लिए देव सो जाते हैं। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार चातुर्मास का प्रारंभ 20 जुलाई 2021 को हो रहा है। आओ जानते हैं ...
16
17
हरियाली अमावस्या को श्रावणी अमावस्या कहते हैं। सावन मास की अमावस्या और पूर्णिमा तिथि का बहुत महत्व होता है। हरियाली अमावस्या सावन शिवरात्रि के दूसरे दिन पड़ती है। श्रावण माह 25 जुलाई 2021 रविवार से प्रारंभ हो रही है और इस साल सावन की हरियाली ...
17
18
ज्योतिषीयों अनुसार पितृदोष कई प्रकार का होता है। कुंडली की भिन्न स्थिति अनुसार जाना जाता है कि किसी जातक को पितृदोष हैं या नहीं। कहते हैं कि पितृदोष के होने से व्यक्ति की आर्थिक उन्नती रुक जाती है, गृहकलह होता है, घर में कोई मांगलिक कार्य नहीं हो ...
18
19
अमावस्या माह में एक बार ही आती है। मतलब यह कि वर्ष में 12 अमावस्याएं होती हैं। श्रावण माह की अवावस्या को श्रावणी और हरियाली अमावस्या कहते हैं। इसे महाराष्ट्र में गटारी अमावस्या कहते हैं। तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में चुक्कला एवं उड़ीसा में चितलागी ...
19