0

17 अक्टूबर तक चमक जाएगा 5 राशियों का भाग्य, कन्या राशि में सूर्य का बढ़ेगा प्रताप

शनिवार,सितम्बर 25, 2021
0
1
हर ग्रह शरीर के जिस अंग का प्रतिनिधित्व करता है उसी के अनुसार रोग होते हैं जैसे शुक्र काम कला का प्रतीक है तो समस्त यौन रोग शुक्र की अशुभता से ही होते हैं।
1
2
25 सितंबर को वर्ल्ड ड्रीम डे अर्थात विश्‍व स्वप्न दिवस ( world dream day ) मनाया जाता है। सपने हमारी नींद का हिस्सा है। आओ जानते हैं सपनों के बारे में 25 अद्भुत जानकारियां।
2
3
अगर घर में चींटियां निकल रही हैं तो यह आपके जीवन में होने वाली किसी बात को लेकर संकेत है।
3
4
कुछ लोग हाथ में तांबे, पीतल या चांदी का कड़ा पहनते हैं। तांबा सूर्य ग्रह को, पीतल बृहस्पति ग्रह को और चांदी चंद्र ग्रह को बलवान करता है। हालांकि किसी ज्यो‍तिष की सलाह पर ही इसे पहनान चाहिए। आओ जानते हैं तांबे का कड़ा पहने के 10 फायदे और नियम।
4
4
5
हिन्दू पंचांग के अनुसार कुछ व्रत या पर्व प्रतिमाह होते हैं परंतु हर माह उनकी कथा और महत्व अलग अलग होता है। आओ जानते हैं कि वर्ष में कौनसे व्रत प्रतिमाह आते रहते हैं।
5
6
ज्योतिष विद्वानों के अनुसार राहु और केतु के कारण ही कालसर्प दोष लगता है और उसी के कारण जीवन में कई तरह की कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। जब कुंडली में सारे ग्रह राहु और केतु के बीच आ जाते हैं तो उसे पूर्ण कालसर्प योग कहते हैं। कालसर्प दोष 12 ...
6
7
हमारे पौराणिक शास्त्रों में श्राद्ध पक्ष में आने वाली इंदिरा एकादशी का बहुत अधिक महत्व माना गया है। वर्ष 2021 में यह एकादशी 2 अक्टूबर, शनिवार को मनाई जा रही हैं।
7
8
जल अर्थात् पानी का धन-दौलत से बहुत करीब का संबंध माना गया है। दोनों ही समान गुणधर्मी होते हैं। दोनों की प्रकृति है बहना। यदि कद्र न की जाए, सहेज कर न रखा जाए तो दोनों बह जाते हैं।
8
8
9
शनिवार की प्रकृति दारुण है। यह भगवान भैरव और शनि का दिन है। समस्त दुःखों एवं परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए शनिवार के दिन उपवास रखना चाहिए। शनि हमारे जीवन में अच्छे कर्म का पुरस्कार और बुरे कर्म के दंड देने वाले हैं। कहते हैं कि जिसका शनि अच्छा ...
9
10
कई लोग भगवान शनि के मंदिर जाते हैं। परंतु परंपरा के अनुसार कुछ सावधानी रखना भी जरूरी होती है और भी कई बातें हैं जिनका ध्यान रखना होता है अन्यथा शनि महाराज कब नाराज होकर आपके लिए संकट खड़ा दे यह कहा नहीं जा सकता। तो आओ जानेत हैं शनि मंदिर जाने और ...
10
11
सूर्य यदि प्रकाश है तो शनि ग्रह अंधकार। अधंकार से लड़ना नहीं होता है बस प्रकाश करना पड़ता है। यदि आपकी कुंडली में शनि के यह 3 शुभ योग है तो समझो कि आप मालामाल हो जाएंगे। क्योंकि शनिदेव देते भी छप्पर फाड़कर और लेते भी छप्पर फाड़कर। आओ जानते हैं कि वे ...
11
12
गजलक्ष्मी व्रत के दिन हाथी की पूजा और महालक्ष्मी के गजलक्ष्मी स्वरूप की पूजा की जाती है। इस साल यह व्रत मत-मतांतर से 28 और 29 सितंबर को मनाया जा रहा है। इस व्रत में मिट्टी के गज बनाए जाते हैं।
12
13
किसी भी खास अवसर पर श्री गणेश के इन नामों का पढ़ने अथवा जपने से जीवन के संकट दूर होकर मनुष्य को यश, सुख और सम्मान की प्राप्ति होती है। श्री गणेश ने अलग-अलग युगों में अलग-अलग अवतार लेकर संसार के संकट का नाश किया।
13
14
शुक्रवार का दिन बहुत महत्वपूर्ण होता है। प्रचलित मान्यताओं के अनुसार इस दिन माता लक्ष्मी, माता कालिका और संतोषी माता की पूजा की जाती है। खासकर इसे मां संतोषी का दिन माना जाता है। माता संतोषी भगवान गणेशजी की पुत्री हैं। आओ जानते हैं कि शुक्रवार का ...
14
15
ज्योतिष के अनुसार शुक्र हमारे जीवन में स्त्री, वाहन और धन सुख को प्रभावित करता है। यह एक स्त्री ग्रह है। कहते हैं कि इसके शुभ प्रभाव के कारण जातक ऐश्वर्य को प्राप्त करता है। शुक्रवार की प्रकृति मृ‍दु है। यह दिन एक और जहां लक्ष्मी का दिन है वहीं ...
15
16
आश्विन मास की संकष्टी चतुर्थी 24 सितंबर 2021, शुक्रवार को मनाई जा रही है। इस चतुर्थी को विघ्नराज संकष्टी चतुर्थी और संकटा चतुर्थी भी कहा जाता है।
16
17
पितृ पक्ष में आने वाले गजलक्ष्मी व्रत पूजन की सरल प्रामाणिक विधि... व्रत को 16 वर्षों तक ही पूरे करना चाहिए। यदि परिस्थितिवश 16 वर्ष के बाद उद्यापन नहीं कर सकें, तो व्रत को आगे भी किया जाता रहे, जब तक कि उद्यापन न हो। यह व्रत आश्विन (क्वांर) कृष्ण ...
17
18
महालक्ष्मी पर्व यानी गजलक्ष्मी व्रत है। इस दिन को दीपावली से भी अधिक शुभ माना जाता है। पितृ पक्ष में आने वाले गजलक्ष्मी व्रत में अगर अपनी राशि अनुसार विधि-विधान से पूजन किया जाए तो महालक्ष्मी विशेष प्रसन्न होती हैं और जीवन में धन-समृद्धि आती है।
18
19

पितृपक्ष 2021 : 10 काम की बातें

गुरुवार,सितम्बर 23, 2021
इन दिनों श्राद्ध पर्व चला रहा है और पितृपक्ष के 16 दिन हमारे पूर्वज धरती पर आते हैं। मान्यता है कि हमारे द्वारा शुद्ध मन से किया गया तर्पण उन्हें तृप्ति प्रदान करता है और वे हमें...
19