सूर्य सिंह संक्रांति : सूर्य का सिंह राशि में प्रवेश, जानिए 12 राशियों पर असर

Surya dev
 
सूर्य ग्रह ने 17 अगस्त 2021, मंगलवार को देर रा‍त 01 बजकर 05 मिनट पर कर्क राशि से सिंह राशि में प्रवेश कर लिया हैं जो यहां 17 सितंबर 2021, शुक्रवार देर रात 01 बजकर 02 मिनट तक इसी राशि में स्थित रहेंगे। इसके बाद कन्या राशि में प्रवेश करेंगे। आओ जानते हैं कि 12 राशियों पर क्या होगा असर।

मेष : सूर्य अपने गोचर ने दौरान मेष राशि राशि के पंचम भाव में ही स्थित होंगे। यह भाव संतान, प्रेम, शिक्षा, पद, प्रतिष्ठा आदि का होता है। आपकी मनोकामनाएं पूर्ण होगी और आत्मविश्वास बढ़ेगा। छात्रों के लिए उत्तम समय है। आर्थिक हालात में सुधार होगा। हालांकि आपको खान-पान का ध्यान रखना चाहिए।

वृषभ : सूर्य आपकी राशि के चतुर्थ भाव में ही स्थित होंगे। यह भाव आपके सुख, माता, वाहन, भूमि, आवास आदि का होता है। इससे उक्त बातों में लाभ मिलेगा। आपको कार्यों में सफलता मिलेगी। पारिवार से संबंध मजबूत होंगे। हालांकि अपाको माता की ओर से परेशानी खड़ी हो सकती है। नौकरी में उन्नती होगी। निवेश के लिए समय अनुकूल है।


मिथुन : सूर्य आपकी राशि के के तृतीय भाव में विराजमान होंगे। यह भाव छोटे भाई-बहन, संबंधी, लेखन आदि का होता है। अपने साहस और आत्मशक्ति की वृद्धि होगी। भाई बहनों से अच्छा सहयोग मिलेगा। यात्रा के योग बनेंगे। समाज में प्रतिष्ठा भी बढ़ेगी। आपको सेहत का ध्यान रखना चाहिए। समय पर आपके सभी कार्य पूरे होंगे। छात्रों के लिए भी अच्‍छा समय है।

कर्क : सूर्य आपकी राशि के द्वितीय में रहेंगे। इस भाव से वाणी, संपत्ति, परिवार, भोजन, कल्पना आदि के बारे जानकारी मिलती है। आपकी वाणी प्रखर होगी। कार्य को सही रूप से और सही समय पर करने में सक्षम होंगे। रचनात्मक कार्यों, नौकरी या व्यवसाय में लाभ मिलेगा। सिखने के प्रति उत्साह बढ़ेगा। परिवार से सहयोग प्राप्त होगा। आपको जिम्मेदारियों को समझने की जरूरत है।

सिंह : सूर्य आपकी राशि के प्रथम भाव अर्थात लग्न में विराजमान होंगे। लग्न भाव से आपके व्यक्तित्व, स्वास्थ्य, चरित्र, बुद्धि और सौभाग्य के बारे में जानकारी मिलती है। सूर्य का यहां होना ऊर्जा और आत्मविश्वास में वृद्धि करता है। फिटनेस के प्रति सचेत रहेंगे और खुश के साथ ही संतुष्ट भी बढ़ेगी। जोखिम लेने और निवेश करने में संकोच नहीं करेंगे। बस आपको अहंकार से बचना होगा। नौकरीपेशा हैं तो तरक्की होगी और व्यपारी हैं तो तो अच्छा लाभ मिलेगा। छात्र हैं तो मेहनत करने का सयम है।

कन्या : सूर्य आपकी राशि के द्वादश भाव में विराजमान होंगे। इस भाव से विदेश, व्यय, दान, धन, ससुराल आदि के बारे में जानकारी मिलती है। व्यवसाय के लिए अनुकुल समय है। टूर एंड ट्रेवल्स, टूरिज्म या मल्टीनेशनल कंपनी में कार्यरत लोगों के लिए यह समय शुभ है। उन्नति होने के साथ-साथ, आपको लाभ मिलना संभव है। बस अपने लक्ष्य पर फोकस करने की जरूरत है।

तुला : सूर्य आपकी राशि में एकादश भाव में गोचर करेगा। राशि के एकादश भाव से कामनाओं, बड़े भाई-बहन, आय आदि के बारे में जानकारी मिलत है। इस दौरान आपमें साहस और आत्मविश्वास बढ़ेगा। विरोधी सक्रिय होंगे परंतु जीत हासिल करने के लिए आपको अपने कार्य पर ही फोकस रखना होगा। आर्थिक जीवन बेहतर होगा। छात्रों के लिए भी यह समय अच्‍छा है। हालांकि रिश्तों में संभलकर आगे बढ़ना होगा।

वृश्चिक : सूर्य आपकी राशि के दशम भाव में विराजमान होंगे। इस भाव से व्यवसाय, कार्यक्षेत्र, मान-सम्मान आदि के बारे में जानकारी मिलती है। आपमें साहस का संचार होगा। व्यक्तित्व में निखार आएगा। आपको अहंकार या घमंड से बचना होगा। स्वाभिमान और अभिमान में फर्क करना सिखना होगा। कार्यक्षेत्र में उन्नती होगी और अधिकारी वर्ग आपसे खुश होंगे। पदोन्नति मिल सकती है। शत्रु परास्त होंगे और समाज में आपको मान-सम्मान बढ़ेगा। संतान सुख के साथ ही आर्थिक जीवन में यह समय आपको अपार लाभ देगा।

धनु : सूर्य आपकी राशि के नवम भाव में स्थित होंगे। इस भाव से भाग्य, धर्म, लंबी यात्रा, पूर्वज, पूर्वजन्म आदि के बारे जानकारी मिलती है। आपको अप्रत्याशित रूप से सफलता मिलेगी। लंबी यात्रा के योग बनेंगे।
धार्मिक और रचनात्मक कार्यों में रुचि बढ़ेगी। छात्रों के लिए भी यह समय अनुकूल है। कई तरह के अवसर सामने आएंगे। आर्थिक लाभ मिलेगा।

मकर : सूर्य इस दौरान आपकी राशि के अष्टम भाव में ही विराजमान होंगे। यह भाव आयु और मृत्यु का भाव भी कहलाता है। इससे आपके जीवन में आने वाली कठिनाइयां, संकट, रुकावट, शत्रु और आयु के बारे में जानकारी मिलती है। इस गोचर से आपमें आत्मविश्‍वास बढ़ेगा और नेतृत्व क्षमता का विकास होगा। हालांकि इस समय आपको शत्रुओं से भी सावधान रहना होगा। वाणी पर नियंत्रण रखते हुए अपने कार्य पर ही फोकस रखना होगा। फालतू खर्चों से बचना होगा।

कुंभ : सूर्य आपकी राशि के गोचर के दौरान सप्तम भाव में विराजमान होंगे। इस भाव से साझेदारी, जीवनसाथी और वैराग्य आदि के पता चलता है। इस समय आपको मिलेजुले परिणाम प्राप्त होगे। आपको सोच-समझ कर बोलना चाहिए और सेहत का भी ध्यान रखना होगा। ग़लतफहमी, अहंकार और व्यर्थ के विवाद से बचना होगा। सभी का सम्मान करना होगा। आपको पारिवार के साथ यात्रा करना चाहिए। हालांकि कलाकारों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, वैज्ञानिकों और राजनीतिज्ञों के लिए यह समय अनुकूल है।

मीन : सूर्य ग्रह आपकी राशि के षष्ठम भाव में गोचर करेंगे। यह भाव अरि भाव है जिससे आपके शत्रु, रोग, मातृ पक्ष के लोग आदि के बारे में जानकारी मिलती है। आपको
खान-पान पर विशेष ध्यान रखना होगा वर्ना बीमार हो पड़ सकते हो। समाज में मान सम्मान बढ़ेगा। कार्य स्थल पर भी प्रशंसा मिलेगी। छात्रों के लिए यह समय अनुकूल है। प्रतियोगी परीक्षा में उत्साह रहेगा। आपके शत्रु परास्त होंगे। आपको सही निर्णय लेने की आवश्यकता है।



और भी पढ़ें :