7 नवंबर 2020 को शनि पुष्य नक्षत्र, सोना खरीदें या वाहन?

यदि सोमवार को आए तो उसे सोम पुष्‍य, मंगलवार को आए तो उसे भौम पुष्य, बुधवार को आए तो बुध पुष्य, गुरुवार को आए तो गुरु पुष्य, शुक्र को आए तो शुक्र पुष्‍य, शनि को आए तो शनि पुष्‍य और रवि को आए तो रवि पुष्‍य नक्षत्र कहते हैं। इनमें से गुरु पुष्‍य, शनि पुष्‍य और रवि पुष्य नक्षत्र सबसे उत्तम बताए गए हैं। सभी का फल अलग-अलग होता है।

दीपवली के पूर्व 7 नवंबर 2020 को है और इसी दिन बहीखाता खरीदी मुहूर्त भी रहेगा। शनि पुष्य नक्षत्र को बहुत ही शुभ माना जाता है। कहते हैं कि इस मुहूर्त में खरीदी गई कोई भी वस्तु अधिक समय तक उपयोगी, शुभ फल देने वाली और अक्षय होती है। आओ जानते हैं इस नक्षत्र में सोना खरीदें, खरीदें या दोनों ही खरीद सकते हैं।
खरीदें या नहीं : पुष्य नक्षत्र पर गुरु, शनि और चंद्र का प्रभाव होता है तो ऐसे में स्वर्ण और चांदी की वस्तुएं खरीदी जा सकती है। इस नक्षत्र के स्वामी शनि हैं जो चिरस्थायित्व प्रदान करते हैं और इस नक्षत्र के देवता बृहस्पति हैं जिसका कारक सोना है। इसी मान्यता अनुसार इस दिन खरीदा गया सोना शुभ और स्थायी माना जाता है। परंतु मुहूर्त चिंतामणि नक्षत्र प्रकरण ग्रंथ के श्लोक 10 के अनुसार, पुष्य, पुनर्वसु और रोहिणी इन तीन नक्षत्रों में सधवा स्त्री नए स्वर्ण आभूषण और नए वस्त्र धारण नहीं करें, ऐसा लिखा है। मतलब यह कि इस दिन संभवत: स्वर्ण तो खरीदा जा सकता है लेकिन पहना नहीं जा सकता।

वाहन खरीदें या नहीं : कई लोग मानते हैं कि शनिवार के दिन लोहा घर में नहीं लाना चाहिए बल्कि लोहे का दान करना चाहिए। किसी भी प्रकार का वाहन तो लोहा ही रहता है। ऐसे में मन में यह शंका रहती है कि वाहन खरीदे या नहीं। परंतु ज्योतिष विद्वानों का मानना है कि पुष्य नक्षत्र अत्यंत ही शुभ होता है। इस नक्षत्र में वाहन, भवन और भूमि खरीदना भी शुभ होता है।
शनिवार को प्रारंभ होने वाला पुष्य नक्षत्र 24 घंटे 40 मिनिट रहेगा। ज्योतिष विद्वानों के अनुसार पुष्य नक्षत्र शनिवार और रविवार के दिन आने से शनि और रवि पुष्य का संयोग बनेगा। कई विद्वानों के अनुसार 7 नवंबर शनिवार को सुबह 8:04 बजे शुरू होगा जो अगले दिन 8 नवंबर रविवार को सुबह 8:44 बजे तक रहेगा। जबकि उज्जैन के पंचांग के मुताबिक पुष्य नक्षत्र शुक्रवार को तड़के 4:32 बजे से शुरू होगा जो शनिवार सुबह 5:02 बजे तक रहेगा। परंतु अधिकतर विद्वानों के अनुसार शनिवार को ही पुष्य नक्षत्र है। इस दिन शनि पुष्य योग बन रहा है। साथ ही पूरे दिन खरीदारी के लिए रवियोग बन रहा है। इस दिन हर तरह की खरीदारी की जा सकती है। अत: इस दिन वाहन खरीदने में कोई बुराई नहीं है।
मान्यता अनुसार इस दौरान की गई खरीदारी अक्षय रहेगी। अक्षय अर्थात जिसका कभी क्षय नहीं होता है।



और भी पढ़ें :