वर्ष 2013 : विश्व में भारत की प्रतिष्ठा बढ़ेगी

वर्ष 2013 : ज्योतिष की नजर से

Jyotish hindi
Author पं. सुरेन्द्र बिल्लौरे|
हमें फॉलो करें
FILE

के ग्रहों की चाल, आकाशीय गणना व आकाशीय चुनाव का कैलेंडर कहता है कि इस वर्ष के प्रारंभ में पराभव नाम का संवत्सर है। इस वर्ष के राजा गुरु व प्रधानमंत्री शनि हैं।

वैसे 5 मई 2013 को प्लवंग नाम का संवत्सर का प्रवेश होगा, परंतु यह पूरा वर्ष पराभव ही कहलाएगा। इस वर्ष के दस विभागों में चार शुभ ग्रहों के पास है एवं छ: विभाग उग्र ग्रहों के पास है।

Jyotish Hindi
FILE


जन्म लग्न कुंडली में शनि एवं राहु की युति है, गुरु-चंद्र की युति है, सूर्य, मंगल, शुक्र व केतु एक साथ (पराक्रम-स्थान में) बैठे हैं। यह चतुग्रही योग बना रहे हैं।
1 जनवरी 2013 के दिन मंगलवार होने से एवं पूरे वर्ष शनि-राहु की युति होने से पूरा वर्ष संघर्ष, उथल-पुथल अर्थात् अशांतिवाला होगा।

आगे पढ़े : देश-विदेश की घटनाएं...




और भी पढ़ें :