बन जाइए महफिल की जान

पार्टी में सबकी नजर में हो आप

साड़ी
NDND
सही तथा सही ड्रेस का चुनाव एक बहुत रचनात्मक प्रक्रिया है। केवल नई ड्रेस पहन लेने, महँगी साड़ी ओढ़ लेने या भारी मेकअप कर लेने भर से आप पार्टी या उत्सव की शान नहीं बन सकतीं। इसके लिए आपको स्वयं को सही तरीके से प्रस्तुत करना तथा मेकअप और कपड़ों में बैलेंस करना आना चाहिए। तभी आप पूरी महफिल में छा सकती हैं। अपनाइए कुछ टिप्स।

ड्रेस अरेंजमेंट- सबसे पहले अपने वॉर्डरोब का जायजा लीजिए। यह कतई जरूरी नहीं कि हर पार्टी में आप नए कपड़े ही पहनें। इसके बजाय जरूरी यह है कि आपके कपड़े व्यवस्थित तथा प्रस्तुति योग्य होने चाहिए। इसलिए पार्टी के कुछ दिन पहले से ही क्या पहनना है यह तय कर लें तथा उस ड्रेस को तैयार कर लें। मसलन यदि उसमें रिपेयरिंग से लेकर प्रेस तक की जो भी जरूरत हो उसे पूरा कर लें।

जब आपकी ड्रेस तैयार होकर सामने टँगी रहेगी तो आप भी निश्चिंत होकर बाकी के काम कर पाएँगी। वरना ऐन वक्त पर आपको परेशान होना पड़ेगा या फिर बिना धुली, बिना प्रेस की हुई ड्रेस पहननी पड़ेगी। यही नहीं, यदि उस ड्रेस में कहीं कोई सिलाई या तुरपन की आवश्यकता हुई तो आपको उसे पहनने का इरादा ही छोड़ना पड़ेगा। इसलिए सर्वप्रथम पहने जाने वाले कपड़ों का निर्धारण कर लें।

का फंडा- यदि आपको ड्रेस की मैचिंग के जूते, पर्स, गहने तथा आदि पहनने हैं तो उन्हें भी तैयार रखिए। अगर ये आपके पास न हों तो कम से कम 4 दिन पूर्व बाजार से लाकर रख लें, वरना वक्त पड़ने पर हो सकता है आपको मनचाही चीज़ न मिले या फिर दुकान ही बंद मिले।

मैचिंग को अपनाते वक्त खुद पर उसका ट्रायल भी लें। हो सकता है कोई चीज़ आपने अपनी मित्र को पहने देखी हो और आप भी वही प्रयोग स्वयं पर करना चाहती हैं, लेकिन वह रंग आप पर सूट ही न हो। अतः केवल देखा-देखी किसी भी तरह की मैचिंग न करें। मौसम के लिहाज से भी आप कपड़े और एसेसरीज़ का चुनाव कर सकती हैं।

प्रस्तुतीकरण- अपनी खुद बनें। किसी व्यक्ति की सलाह, मार्गदर्शन या फिर राय लेना कतई गलत नहीं, लेकिन किसी को बिना सोचे-समझे फॉलो करने से बचें खासतौर पर मॉडल तथा अभिनेत्रियों को। हमेशा यह बात याद रखिए कि जो चीज़ स्क्रीन पर सुंदर दिखाई दे रही है वह आप पर भी फबे यह कतई जरूरी नहीं।

कोई भी ड्रेस, मेकअप या गहना आप पर तभी सूट करेगा, जब वह आपके तथा समय के अनुकूल हो। बिना सोचे-समझे यदि आपने किसी की नकल की तो आप हँसी की पात्र बनकर रह जाएँगी। आपका प्रस्तुतीकरण आपके अनुकूल तथा गरियाममयी होना चाहिए।
- राधिका मनवानी



और भी पढ़ें :