आप बोलते समय सोचते हैं

व्यक्तित्व
ND
ND
के की पहचान उसके करने के ढंग से होती है। भले ही कोई व्यक्ति कितना ही सुंदर हो, परंतु वाणी में कर्कशता या रुखापन हो तो वह कभी किसी को अपनी ओर आकर्षित नहीं कर सकता।

इसके विपरीत सामान्य-सा दिखने वाला व्यक्ति यदि सौम्य है और उसकी वाणी में मिठास है तो वह सहज ही सबको अपनी ओर आकर्षित कर लेगा। उचित-अनुचित का ज्ञान रखकर बोलने से आपका व्यक्तित्व प्रभावशाली बन सकता है। इसलिए आवश्यक है। तोल-मोल के बोलना कुछ इस तरह-


अपनी पर ध्यान दें, बहुत ऊँचे स्वर में चिल्ला-चिल्लाकर न बोलें।

बोलते समय विषय का पर्याप्त ज्ञान हो इसका ध्यान रखें।

बिना सोचे-समझे कभी न बोलें। बोलते समय व स्थान का विशेष ध्यान रखें। बाजार, आदि में धीरे बोलें।

दो लोगों के बीच कभी न बोलें। न ही बिन माँगे अपनी सलाह दें।

दूसरों की बात ध्यान से सुनें, तभी बोलें। साथ ही उनकी रुचि का ध्यान रखकर बोलें।

बोलते समय बेवजह न हाथ नचाएँ, न आँखें मटकाए न दूसरों को छुए या हाथ मारें।

कुछ खाते हुए कभी न बोलें। बोलते समय थूक के छींटें दूसरों पर न उड़ाएँ।

किसी दूर खड़े व्यक्ति से दूर से ही चिल्लाकर बात करने की कोशिश न करें, पास जाकर बोलें।

बच्चों के स्कूल में उनकी अध्यापिकाओं आदि से से बोलें।

अपने उच्चाधिकारी होने का मान करते हुए अपने मातहतों को तुच्छ न समझें।

बच्चों के सामने उनके टीचर्स व रिश्तेदारों के लिए न कहें।

अपने पद की गरिमा बनाए रखें एवं ऐसी स्थिति से बचें कि आपसे छोटा व्यक्ति आपको दे जाए।

सेवक या किसी भी बाहरी व्यक्ति से अपने घर की बातें न करें, न ही उनके सामने बहस व गाली-गलौज करें।

अपनी गलत बात को सही सिद्ध करने के लिए बहस न करें। न ही चिल्ला-चिल्लाकर उसे सही सिद्ध करने की कोशिश करें।

अपने से बड़ों के लिए अपशब्द उनकी पीठ पीछे भी न कहें।

किसी के मुँह से निकली बात का मजाक अन्य लोगों के सामने न उड़ाएँ। न ही भरी महफिल में किसी को शर्मिंदा करें।

एक-दूसरे की बात इधर से उधर न करें। एक कान से सुनें, दूसरे से निकाल दें।

WD|
- मनीषा पगारिया
इन छोटी-छोटी बातों को ध्यान में रखकर आप अपने व्यक्तित्व को आकर्षक बना सकते हैं।



और भी पढ़ें :