तेनालीराम की कहानियां : जाड़े की मिठाई

FC


पुरोहित ने हलवा, मालपुए, पिस्ते की बर्फी आदि कई मिठाइयां गिना दीं।

राजा कृष्णदेव राय ने सभी मिठाइयां मंगवाईं और पुरोहित से कहा- ‘जरा खाकर बताइए, इनमें सबसे अच्छी कौन-सी है?’ पुरोहित को सभी मिठाइयां अच्छी लगती थीं। किस मिठाई को सबसे अच्छा बताता?

ने कहा, ‘सब अच्छी हैं, मगर वह मिठाई यहां नहीं मिलेगी।’

‘कौन-सी मिठाई?’ राजा कृष्णदेव राय ने उत्सुकता से पूछा- ‘और उस मिठाई का नाम क्या है?’



और भी पढ़ें :