तेनालीराम की कहानियां : तेनालीराम और चोटी का किस्सा

FILE


‘कैसे?’ राजा ने पूछा।’

‘अभी जान जाएंगे आप, जरा राजगुरु को बुलवाइए।’

राजगुरु को बुलवाया गया।

ने कहा, ‘महाराज, अब मैं अपनी बात साबित करूंगा, लेकिन इस काम में आप दखल नहीं देंगे। आप यह वचन दें, तभी मैं काम आरंभ करूंगा।’
WD|



और भी पढ़ें :