बहादुर रुखसाना के घर आतंकवादी हमला

राजौरी (भाषा)| भाषा| पुनः संशोधित शनिवार, 31 अक्टूबर 2009 (00:10 IST)
हमें फॉलो करें
बदले की कार्रवाई में आतंकवादियों ने शुक्रवार रात बहादुर लड़की के घर पर ग्रेनेड फेंके जो उस समय राष्ट्रीय स्तर पर सुखिर्यों में आई थी, जब उसने लश्कर-ए-तोइबा के एक आतंकवादी को मारकर अन्य आतंकवादियों को भागने पर मजबूर कर दिया था।


हालाँकि घटना के समय रुखसाना घर में मौजूद नहीं थी। राजौरी के जिला कलेक्टर एस. जयपालसिंह ने बताया कि आतंकवादियों ने राजौरी जिले के थानामंडी स्थित रुखसाना के घर पर ग्रेनेड फेंके, लेकिन इस घटना के समय न तो रुखसाना और न ही उसके परिवार को कोई सदस्य घर में मौजूद था। उन्होंने कहा कि रुखसाना और उसका परिवार राजौरी में ही एक अत्यंत सुरक्षित स्थान पर है। ग्रेनेड फेंकने के बाद आतंकवादी अँधेरे का लाभ उठाकर फरार हो गए।
सिंह ने कहा कि आतंकवादियों की ओर से बदले की कार्रवाई की आशंका थी और इसीलिए रुखसाना और उसके परिवार को सुरक्षित स्थान पर रखा गया है।


उल्लेखनीय है कि गत 27 सितंबर की रात रुखसाना ने राजौरी जिले के अंतर्गत कलसियाँ गाँव स्थित अपने घर में घुसे लश्कर के एक शीर्ष पाकिस्तानी आतंकवादी को मार गिराया था और एक अन्य को घायल कर दिया था।

रुखसाना और उसके भाई-बहनों ने आतंकवादियों से जमकर टक्कर ली थी। रुखसाना ने एक आतंकवादी की राइफल छीनकर उसे घटनास्थल पर ही ढेर कर दिया था।

इस घटना में रुखसाना के माता-पिता राशिदा और नूर हुसैन घायल हो गए थे। 27 सितंबर की इस घटना से पहले रुखसाना ने कभी बंदूक नहीं पकड़ी थी, लेकिन उस दिन उसने बहादुरी की मिसाल कायम की। इस घटना से वह रातोरात एक हस्ती बन गई जिसकी राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल और गृहमंत्री पी. चिदंबरम ने भी तारीफ की।



और भी पढ़ें :