बाहुबली पर मेहरबान बहनजी!

विधायक गुड्‍डू पंडित को जेड श्रेणी की सुरक्षा

WDWD
पूर्व मुख्यमंत्री कल्याणसिंह के पुत्र राजवीरसिंह राजू को हराकर जनपद बुलंदशहर के डिबाई से बसपा विधायक बने भगवान शर्मा उर्फ गुड्‍डू शर्मा को राज्य सरकार ने हाल ही में जेड श्रेणी की सुरक्षा देने का निर्णय लिया है।

आतंकी खतरे और धार्मिक कट्टरवाद के चलते राज्य के 55 नेताओं, 5 अफसरों और एक वकील की सुरक्षा सख्त की गई है किन्तु गुड्डू पंडित को दी गई जेड श्रेणी की सुरक्षा को लेकर अनेक सवाल उठाए जा रहे हैं। आश्चर्य है कि बसपा के विधायक बनते ही गुड्डू पंडित को एक्स श्रेणी की सुरक्षा बसपा सरकार ने दे दी और तीन माह बीतते ही सुरक्षा श्रेणी बढ़ाकर वाई-श्रेणी की सुरक्षा कर दी गई थी।

गुड्डू पंडित पर लगभग 24 से अधिक आपराधिक मामले हैं। वाहन चोर से नेता बना गुड्डू नोएडा के सेक्टर-24 थाने का हिस्ट्रीशिटर रहा है। वह 5 नंबर पर हिस्ट्रीशीटर बदमाश के रूप में पहचाना जाता था। उस पर डीएलएफ के 11 करोड़ रुपए के फ्रॉड करने का भी आरोप है।

गुड्डू पंडित पर पिछले माह बुलंदशहर के एक विद्यालय के प्रधानाचार्य की हत्या का आरोप है। हत्या होने से पहले प्रधानाचार्य ने मीडिया को विधायक गुड्डू पंडित द्वारा दी जा रही जान से मारने की धमकी की जानकारी दे दी थी।

गुड्डू पंडित के नोएडा व ग्रेटर नोएडा के अधिकारियों से गहरी पैठ है और उसी के चलते उसने डीएलएफ कंपनी को चूना लगाया। डीएलएफ के मामले ने इतना तूल पकड़ा कि न केवल गुड्डू पंडित के दोनों प्राधिकरणों में प्रवेश पर पाबंदी लगा दी गई थी बल्कि उसके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज करा दी गई थी।

गुड्डू पंडित की प्रदेशव्यापी चर्चा कवयित्री मधुमिता शुक्ला की हत्या के बाद हुई। इस केस में मुख्य अभियुक्त अमरमणि त्रिपाठी के खास होने के कारण इस मामले में उसका नाम जमकर उछला था। सीबीआई ने उससे भी पूछताछ की थी, लेकिन गुड्डू पल्टी मारकर सीबीआई का गवाह बन गया। इस समय गुड्डू पंडित ने थाना सेक्टर-24 में अपने घर में चोरी होने एवं भाई की लाइसेंसी रिवाल्वर चोरी होनी की रिपोर्ट दर्ज कराई है।

नोएडा एवं ग्रेटर नोएडा में प्लाट दिलाने के नाम पर दलाली करने वाला गुड्डू पंडित कुछ ही वर्षों में करोड़पति बन गया और अमरमणि की सोहबत में आते ही वह अरबपति, अब बसपा का विधायक बन गया है।

गुड्डू पंडित को आगे बढ़ने में बाहुबली विधायक अमरमणि त्रिपाठी का हाथ रहा जब अमरमणि बसपा विधायक एवं व्यापार कर विभाग के मंत्री थे। नोएडा में अमरमणि का मकान बनाने के नाम पर गुड्डू पंडित ने व्यापार कर चोरी करने वाले से चन्दा उगाही करना शुरू कर दिया और प्राप्त नकद एवं निर्माण सामाग्री से उसने अपने गाँव में ही एक आलीशान कोठी बना ली, जिसकी लोग कीमत लगभग 10 करोड़ आँकते हैं। कुछ ही दिनों में गुड्डू पंडित अमरमणि का दायाँ हाथ बन गया और उन्हीं के प्रयासों से उसने अपनी हिस्ट्रीशीट बंद करवा ली।

अमरमणि त्रिपाठी के साथ मिलकर गुड्डू पंडित ने प्रदेश के एमएलए एवं एमएलसी को सदस्य बनाकर एक सोसाइटी बनाई और ग्रुप हाउसिंग के लिए नोएडा प्राधिकरण से सोसाइटी का नाम आवंटन भी करा लिया। लेकिन कुछ समय बाद मायावती सरकार गिरी तो प्राधिकरण ने सोसाइटी को डिफाल्टर घोषित कर आवंटन रद्‍द कर दिया। कहा जाता है सोसाइटी में शामिल सदस्य विधायकों से सोसाइटी में फ्लैट देने के नाम पर मोटी रकम वसूली गई, जिसे आवंटन रद्‍द होने के बाद लौटाया नहीं गया।

प्रदेश में मुलायमसिंह सरकार बनते ही अमरमणि त्रिपाठी बसपा छोड़कर सपा में शामिल हो गए। गुड्डू पंडित का एक बार फिर नोएडा एवं ग्रेटर नोएडा प्राधिकरणों में जलवा हो गया। अधिकारी उसे हाथों-हाथ लेने लगे। अप्रैल 2005 तक गुड्‍डू पंडित ने आईटी एवं इंडस्ट्री के कई दर्जन भूखंड आवंटित कराकर इन भूखंडों के एवज में 600 रुपए प्रति वर्गमीटर की दलाली वसूली। गुड्डू पंडित ने मुलायम शासनकाल में कृषि मंत्री शिवपालसिंह यादव के नाम से मेसर्स डायमंड गारमेंट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के नाम से दो करोड़ रुपए भूमि दिलाने के नाम से वसूले किन्तु वह गारमेंट कंपनी वालों को नही मिला।

अब गुड्डू पंडित नोएडा, ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे में आईटी व इंडस्ट्री का भूखंड दिलाने वाला बादशाह है। अब जब प्रदेश में आठ लेन वाला गंगा एक्सप्रेस-वे बनने की योजना परवान पर है, ऐसे समय इस योजना के तहत गंगा के किनारे बनने वाले एक्सप्रेस-वे मार्ग के किनारे करोड़ों की कीमती भूमि के कथित सौदागर को जेड-श्रेणी की सुरक्षा देकर सरकार ने उपकृत किया है।

लखनऊ से अरविन्द शुक्ला| WD|
बसपा सुप्रीम ने गुड्‍डू के भाई मुकेश को भी उस इलाके से लोकसभा चुनाव लड़ाने का ऐलान किया है, जहाँ से वर्तमान में पूर्व मुख्‍यमंत्री कल्याणसिंह सांसद हैं। मुकेश की पृष्ठभूमि भी आपराधिक है।



और भी पढ़ें :