नैनो प्लांट गुजरात में लगेगा

राज्य के विकास को नई दिशा मिलेगी-मोदी

अहमदाबाद (भाषा)| WD|
टाटा समूह ने मंगलवार को घोषणा की कि उनकी लखटकिया कार 'नैनो परियोजना' में के पास में 2000 करोड़ रुपए के निवेश से स्थापित होगी। टाटा ने घोषणा की कि एक कामचलाऊ संयंत्र से समयसीमा के अंदर विश्व की इस सबसे सस्ती कार को बनाने की कोशिश की जाएगी।


टाटा समूह के प्रमुख रतन टाटा ने यहाँ गुजरात सरकार के साथ एक सहमति-पत्र पर हस्ताक्षर करने के बाद कहा कि यह हमारे लिए बहुत यादगार और खुशी का दिन है क्योंकि हम पश्चिम बंगाल सरकार की कोशिशों के बावजूद के कुछ बाशिंदों के कारण बहुत कटु अनुभव से गुजरे हैं।
करीब 1100 एकड़ भूमि के त्वरित आवंटन के लिए गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना करते हुए टाटा ने कहा कि कंपनी को नए स्थान की सख्त जरूरत थी और वह राज्य की ख्याति से प्रभावित हैं।


उन्होंने कहा गुजरात का परियोजना स्थल पहले से ही राज्य सरकार के नियंत्रण में है, जिससे टाटा मोटर्स को कम से कम समय और न्यूनतम परियोजना लागत से नया मुख्य संयंत्र लगाने में मदद मिलेगी। टाटा मोटर्स के लिए करीब 60 कलपुर्जा कंपनियाँ भी नए स्थान का रुख करेंगी।

गुजरात सरकार द्वारा पेश कुल सौदे के बारे में पूछने पर टाटा ने कहा कि यह लगभग पश्चिम बंगाल जैसा ही है या फिर थोड़ा बेहतर है।

राज्य को नई दिशा मिलेगी : गुजरात उन कई राज्यों में शामिल था जो परियोजना अपने यहाँ स्थापित करने के लिए आमंत्रित करने की होड़ में थे। टाटा का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि टाटा और गुजरात ने भागीदारी का नया अध्याय शुरू किया है, जो राज्य को नई दिशा और नया आयाम देगा। मोदी ने कहा कि नैनो कार परियोजना के बाद गुजरात भूतल परिवहन के क्षेत्र में महत्वपूर्ण स्थान बन जाएगा।
टाटा ने कहा कि शुरुआत में टाटा मोटर्स सालाना 2.5 लाख से 3 लाख कार का उत्पादन करेगी और इस क्षमता को बढ़ाकर सालाना पाँच लाख कारों का किया जा सकता है।



और भी पढ़ें :