अमृता राय के पति की सफाई...

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित बुधवार, 30 अप्रैल 2014 (23:50 IST)
हमें फॉलो करें
PR
नई दिल्ली। महासचिव और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा से शादी करने की घोषणा के बाद उठे विवाद के बारे में अमृ‍ता के पति को मीडिया में बयान जारी करना पड़ा। उन्होंने कहा कि मेरे और अमृता के बीच रिश्ते काफी पहले की खत्म हो चुके थे और वह अपने बारे में कोई भी निर्णय करने के लिए स्वतंत्र हैं।


उन्होंने फेसबुक पर एक पोस्ट में कहा, हम कुछ समय पहले अलग हो गए थे तथा आपसी सहमति से तलाक के लिए आवदेन कर दिया है। हमारे बीच संबंध काफी पहले ही खत्म हो गए थे तथा अमृता अपने जीवन के बारे में कोई भी निर्णय लेने को स्वतंत्र है तथा मैं उसका सम्मान करूंगा।

अमृता के पति ने सभी से अनुरोध किया कि उनकी निजता का सम्मान किया जाए और इस मुद्दे पर कोई शर्मसार करने वाली स्थिति उत्पन्न नहीं की जाए। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि यह उनके लिए एक कड़ा एवं दुखदायी दौर है।

उनके पति ने कहा, चूंकि यह एक कानूनी प्रक्रिया है, इसमें अपना समय लगता है लेकिन हमारे संबंध काफी समय पहले ही खत्म हो गए थे। मैं उसके उज्ज्वल भविष्य की कामना करता हूं। मैं जानता हूं कि मेरे मित्र, शुभेच्छु और छात्र इसके कारण दुखी हैं लेकिन मैं यह भी जानता हूं कि वे मेरे साथ खड़े हैं।

इस बीच एक शादीशुदा महिला पत्रकार के साथ संबंधों की स्वीकारोक्ति पर भाजपा ने आज कहा कि यह नैतिकता का प्रश्न होने के साथ अपराध की श्रेणी में आता है और इसके लिए उन्हें सज़ा भी हो सकती है।

भाजपा प्रवक्ता मीनाक्षी लेखी ने यहां कहा, गुप्त विवाह संभव नहीं है। एक वकील के नाते मैं कह सकती हूं कि अभी तलाक नहीं हुआ है। नैतिकता का सबक देने वालों ने इसकी विकृत परिभाषा की है और कांग्रेस नेतृत्व को इसका संज्ञान लेना चाहिए।
उन्होंने कहा, एक अभद्र किस्म की सीडी निकली है। मैं दिग्विजय नहीं हूं, इसलिए उनके तरह की बात नहीं कर सकती हूं, लेकिन यह जरूर कहूंगी कि नैतिकता के प्रश्न के साथ ही यह कायदे से अपराध भी है क्योंकि उनकी अभी शादी नहीं हुई है। कानूनी तौर पर तलाक भी नहीं हुआ है।

लेखी ने कहा कि इस मामले में दिग्विजय सिंह को सजा भी हो सकती है और ऐसा करना (उक्त महिला पत्रकार के) पति के अधिकार क्षेत्र में आता है। पति चाहे तो दिग्विजय पर मामला कर सकते हैं। दिग्विजय पर व्यंग्य करते हुए उन्होंने कहा कि नैतिकता का पाठ पढ़ाने वाले ने नैतिकता की नई परिभाषा गढ़ी है। (वेबदुनिया/भाषा)



और भी पढ़ें :