सफलता नहीं, विफलता है शाहरुख की प्रेरणा

मुंबई (भाषा)| भाषा|
हमें फॉलो करें
की चोटी पर सफलता के झंडे गाड़ने वाले का कहना है कि उनकी विफलताओं ने उन्हें आगे बढ़ना सिखाया।


खान के मुताबिक सही मायनों में खुश व्यक्ति वह है, जो अपनी जिंदगी अपनी शर्तों पर जीता है और इसके लिए जिम्मेदारी भी लेता है। कोई भी जो यह जानता है कि कैसे खड़ा हुआ जाता है और सब कुछ दोबारा शुरू किया जाता है वह भी पहली बार में विफल होता है।

शाहरुख ने कहा असफल होने के लिए मैं तैयार हूँ। मैं जानता हूँ कि मैं अजेय नहीं हूँ। एक पत्रिका को दिए साक्षात्कार में शाहरुख ने कहा आज आप बाहर से जो देखते हैं, वह मेरी सार्वजनिक छवि है। मुझे लाखों बुरे अनुभव हुए। मैंने लाखों गलतियाँ की।

शाहरुख ने कहा उन्हें ऐसा महसूस नहीं होता कि खुशी का पैमाना होता है। शायद यह जिंदगी में सबसे महत्वपूर्ण चीज है। यदि आप खुश नहीं हैं तो आप अपनी सफलता का लुत्फ भी नहीं ले पाएँगे।


शाहरुख ने कहा सकारात्मक सोच और उत्सुकता के जरिये कोई भी व्यक्ति खुशी पैदा कर सकता है। शाहरुख ने कहा कि वह जोखिम लेना पसंद करते हैं, लेकिन यह इसलिए मुमकिन है, क्योंकि मैं हमेशा मुमकिन सोचता हूँ।



और भी पढ़ें :