मालवा के मूर्खों! एक हो जाओ

अप्रैल फूल विशेष

अप्रैल फूल
NDND
मूर्ख-दिवस अर्थात फर्स्ट की शुरुआत कब और कहाँ हुई, इस सवाल पर बहस आज भी जारी है। कोई मूर्ख-दिवस की शुरुआत का श्रेय फ्रांस को देना चाहता है तो कोई ब्रिटेन को, कोई इटली को तो कोई ऑस्ट्रेलिया अथवा अमेरिका को। किंतु सच्चाई तो यह है मूर्ख दिवस के श्रेय और शील्ड का असली हकदार तो हमारा देश है।

हमारे देश में भी, खासतौर से मप्र में भी विशेष रूप से मालवा। मालवा में भी प्रधान रूप से उज्जैन। उज्जैन में प्रतिवर्ष 1 अप्रैल को होने वाला टेपा सम्मेलन इस बात का प्रमाण है। टेपा सम्मेलन के आयोजकों ने मीडिया के माध्यम से इसको दस्तावेजी प्रमाण की शक्ल भी दे दी है।

मूर्खता के क्षेत्र में अग्रणी और प्रथम होने का जो ऐतिहासिक प्रमाण-पत्र हमारे पास है, वह किसी अन्य देश के पास नहीं है। अन्य देशों के पास मूर्खता की जेरोक्स कॉपी है, जबकि हमारे देश के पास मूर्खता की मूल प्रति है। चूँकि आज मूर्ख-दिवस है इसलिए मैं मूर्खतापूर्ण विचार (?) के द्वारा जेरोक्स कॉपी और ओरिजनल कॉपी का अंतर स्पष्ट कर देता हूँ।

NDND
हमारे देश को मूर्खता की ओरिजनल कॉपी इसलिए कहा जा रहा है कि मूर्खता के मूल में कालिदास हैं। कवि तो वे बाद में हुए, पहले वे शुद्ध मूर्ख थे, क्योंकि पेड़ की जिस डाल पर बैठे हुए थे, उसी को कुल्हाड़ी से काट रहे थे। मूर्खता का इतना "इनोसेंट" और "ओरिजनल" उदाहरण दुनिया के किसी अन्य देश के इतिहास में है? हो गया न सिद्ध कि मूर्खता में हम ओरिजनल हैं और अन्य देश जेरोक्स कॉपी।

इसलिए मूर्ख-दिवस मनाने का श्रेय जब इतिहासकार अन्य देश को देना चाहते हैं तो उनकी नीयत पर संदेह होना स्वाभाविक है। कालिदास ने डाल काटने की ओरिजनलिटी से मूर्खता के क्षेत्र में दुनिया के सभी देशों की दादागिरी समाप्त कर दी है। मूर्खता की इस प्यारी और न्यारी स्थिति के कारण ही मूर्ख-दिवस के आरंभ का श्रेय हमें ही मिलना चाहिए। अन्य देशों के पास मूर्खता की "क्वांटिटी" है किंतु हमारे पास "क्वालिटी" है।

दरअसल, दुनिया का सबसे प्रथम मूर्ख-दिवस उस तिथि को रहा होगा, जिस दिन कालिदास काका ('अंकल' काली) ने वह डाल काटी थी जिस पर वे बैठे थे। वह तिथि संभव है फर्स्ट अप्रैल ही रही हो। अगर फर्स्ट अप्रैल न भी रही हो तो भी इस फर्स्ट एप्रिल पर हमारा ही अधिकार है। दरअसल, कालिदास के कारण मूर्खता पर हमारा "कॉपीराइट" होना चाहिए।

अजहर हाशम
अप्रैल फूल
NDND
एक वाक्य में कहें तो मूर्खता हमारा मौलिक अधिकार है। बुद्धिमत्ता अन्य देशों की "ब्रेड-बटर" है जबकि मूर्खता कालिदास की "दाल-बाटी" है। गत कई वर्षों से उज्जैन में होने वाला टेपा-सम्मेलन मूर्ख-सम्मेलन ही तो है। टेपा-सम्मेलन के आयोजकों ने इसको रियलिटी शो बना दिया है। आयोजकगण टेपा-सम्मेलन की "आन-बान-शान" और मूर्खों की "पहचान" को कायम रखने के लिए इतने "लायल" हैं कि हर टेपा "रॉयल" और हर दर्शक "कायल" हो रहा है। इससे यह संदेश तो जा ही रहा है कि "मालवा के मूर्खों! एक हो जाओ।



और भी पढ़ें :