आईएमजी मसले पर बीसीसीआई पर बरसे पवार

मुंबई (भाषा) | भाषा| पुनः संशोधित बुधवार, 2 सितम्बर 2009 (14:37 IST)
हमें फॉलो करें
के पूर्व अध्यक्ष आगामी आईपीएल सत्र के लिए आईएमजी की सेवाएँ नहीं लेने के निर्णय पर क्रिकेट बोर्ड पर जमकर बरसे और उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा है कि यह निर्णय कानूनी विवाद की जड़ बन सकता है और बोर्ड की साख भी कमजोर पड़ सकती है।


पवार ने बीसीसीआई प्रमुख शशांक मनोहर को भेजे पत्र में साफ लिखा है कि सितंबर 2008 तक उनके बोर्ड अध्यक्ष के कार्यकाल के दौरान आईएमजी के साथ हुआ दस साल का सभी जरूरी शर्तों पर मंजूर हुआ था।

मुंबई क्रिकेट संघ के अध्यक्ष पवार ने पत्र में लिखा है कि बीसीसीआई के सम्मानीय सचिव द्वारा आईएमजी के साथ अनुबंध समाप्त करने के बारे में सुनकर मैं बहुत परेशान हूँ। मुझे लगता है कि बीसीसीआई का यह कदम गलत है और उसे परेशानी में ड़ाल सकता है।

विश्व कप 2011 की केन्द्रीय आयोजन समिति के अध्यक्ष पवार ने लिखा कि यह कदम न सिर्फ लंबे कानूनी पचड़े में ड़ाल सकता है बल्कि जनता में इसका गलत संदेश भी जाएगा। सनद रहे कि बीसीसीआई ने आईएमजी के साथ अनुबंध यह कहते हुये समाप्त कर दिए है कि यह संगठन उनसे बहुत ज्यादा धनराशि वसूल कर रहा है।

आईएमजी ने बोर्ड से आईपीएल के पहले सत्र (2008) में करीब 43 करोड़ रुपए और दक्षिण अफ्रीका में इस साल हुए आईपीएल के दूसरे सत्र में करीब 33 करोड़ रुपए लिए थे।

पवार ने कहा मुझे लगता है कि बोर्ड ने हमेशा से भारतीय क्रिकेट को लाभ पहुँचाने वाले कार्य किये हैं लेकिन इस तरह का निर्णय आईपीएल के अन्य शेयरधारकों में खलबली मचा सकता है। उन्होंने कहा कि उन्हें आशा है कि मनोहर ओर बीसीसीआई के अन्य अधिकारी बोर्ड के हित में सही निर्णय लेंगे।
पवार ने कहा कि आईपीएल में कई शेयरधारक हैं और हमारे निर्णय से अगर वे निवेश करने में संकोच करते हैं तो इससे बोर्ड की साख को धक्का लगेगा। आईपीएल की जबर्दस्त सफलता के बाद अब यह हमारा कर्तव्य है कि हम बीसीसीआई के साथ इसके शेयरधारकों को भी बचाए रखें। पवार ने इस पत्र में यह भी सूचना दी है कि फ्रैंचाइजी मालिक मुकेश अंबानी ने इस मामले पर उन्हें एक पत्र भेजा है।
उन्होंने लिखा कि मुझे शेयरधारकों की ओर से कुछ फोन कॉल और पत्र मिले हैं। मुकेश अंबानी से मिले पत्र को भी मैं साथ में भेज रहा हूँ। मुझे उम्मीद है कि आप और अन्य अधिकारी बीसीसीआई के हित में कोई सही कदम उठाएँगे।



और भी पढ़ें :