सत्यम पर जुर्माना न लगाने की अपील

कोलकाता | भाषा| पुनः संशोधित मंगलवार, 15 दिसंबर 2009 (19:16 IST)
ने अमेरिका के शेयर बाजार नियामक, प्रतिभूति विनिमय आयोग (सेक) से की कि वह सर्विसेज पर अब कोई जुर्माना न लगाए। कंपनी में अनियतिमताओं के बाद इसे सरकार के हस्तक्षेप से नीलाम किया जा चुका है और यह नए प्रबंधकों के हाथ में पहुँच कर महिंद्रा सत्यम बन चुकी है।


कंपनी मामलों के मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा कि यह अपील भारतीय बाजार नियामक के माध्यम से की गई है। उन्होंने कहा कि हमने सेक से अपील की है कि सत्यम पर कोई जुर्माना नहीं लगना चाहिए क्योंकि इसका बोझ आखिरकार शेयरधारकों पर पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि सत्यम को फिर से अपने पाँव पर खड़ा किया गया है। जुर्माना लगाने से पुनर्वास की प्रक्रिया रूकेगी, जो बहुत रचनात्मक तरीके से पहले ही शुरू हो चुकी है।

खुर्शीद ने कहा कि केंद्र ने सेबी के जरिए अमेरिकी नियामक के साथ सम्पर्क किया है। सेबी का सेक से समझौता है।


उन्होंने कहा कि हम यह नहीं जानते कि सेबी को जुर्माने की सूचना मिली है या नहीं। हम अमेरिकी सरकार के साथ संपर्क में है लेकिन सेक एक स्वायत्त संस्था है। खुर्शीद ने कहा कि अमेरिका में चूक करने वाली कंपनियों पर जुर्माना लगाने की व्यवस्था है। (भाषा)



और भी पढ़ें :