...तो प्रधानमंत्री पद छोड़ देंगे गिलानी

इस्लामाबाद| भाषा| पुनः संशोधित गुरुवार, 19 नवंबर 2009 (22:49 IST)
FILE
के प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने कहा कि अगर यह साबित होता है कि उनकी पत्नी को पूर्व सैन्य शासक परवेज मुशर्रफ के लाए गए विवादास्पद से मदद मिली तो वे पद छोड़ देंगे।


मुशर्रफ मौजूदा राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी सहित सैंकड़ों लोगों के खिलाफ घूसखोरी के आरोप हटाने के लिए राष्ट्रीय पुनर्मेलमिलाप अध्यादेश लाए थे।

गिलानी ने कहा कि उन्होंने मीडिया के एक वर्ग में खबरें देखीं, जिनमें उनकी पत्नी फौजिया को भी एनआरओ के लाभान्वितों में से एक बताया गया है। उन्होंने यह स्पष्ट किया कि उनकी पत्नी को इससे लाभ नहीं मिला है।

गिलानी ने कहा ‍कि अगर ऐसा कुछ है और अगर यह साबित होता है कि मेरी पत्नी को एनआरओ से राहत मिली है तो मैं प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दूँगा। उन्होंने कहा कि उन्हें मीडिया में आई एनआरओ के लाभान्वितों की सूची में उनकी पत्नी का नाम शामिल होने में कोई साजिश नजर आती है।


गिलानी ने कहा कि सरकार इसकी जाँच कराएगी कि विधि मंत्रालय ने संसद के आखिरी सत्र में लाभान्वितों की सूची क्यों नहीं सौंपी। (भाषा)



और भी पढ़ें :