नवाज शरीफ की आतंकवाद पर चुप्पी, छेड़ा राग कश्मीर

न्यूयॉर्क| भाषा|
हमें फॉलो करें
FILE
न्यूयॉर्क। पाकिस्तान ने पर भारत की चिंताओं का समाधान करने के लिए कोई स्पष्ट भरोसा नहीं दिया बल्कि इसके बजाय कश्मीर मुद्दा और बलूचिस्तान में भारत द्वारा ‘बाहरी हस्तक्षेप’ का मुद्दा उठा दिया।


पाकिस्तान के विदेश सचिव जलील अब्बास जिलानी ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बीच बैठक के बारे में जानकारी देते हुए कहा, ‘आतंकवाद पर चर्चा की गई। हम आतंकवाद पर आपकी चिंताओं से अवगत हैं और मेरा मानना है कि भारतीय पक्ष भी हमारी चिंताओं से अवगत है।’
जिलानी ने कहा, ‘प्रधानमंत्री शरीफ ने भी बलूचिस्तान और पाकिस्तान के अन्य हिस्सों में बाहरी हस्तक्षेप पर जोर दिया।’ उन्होंने कहा, ‘मुझे इस बात में कोई संदेह नहीं कि आज की बैठक में जम्मू-कश्मीर सहित सभी मुद्दों पर चर्चा हुई।’ उन्होंने कश्मीर को एक ‘बहुत महत्वपूर्ण मुद्दा’ बताते हुए कहा कि इसका समाधान होना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘हमने दोनों नेतृत्वों में एक सौहार्दपूर्ण ढंग से एक समान इच्छा देखी।’ हाफिज सईद और जमात उद दावा पर सवालों का जवाब देते हुए जिलानी कोई प्रतिबद्धता देने से बचते नजर आए और कहा कि जमात उद दावा और हाफिज सईद सहित आतंकवाद के मुद्दे पर चर्चा करने के लिए दोनों पक्षों में ‘इच्छा और प्रतिबद्धता’ है। (भाषा)



और भी पढ़ें :