ब्रह्मांड का लापता द्रव्य खोजा!

लंदन (भाषा)| भाषा|
खगोलविदों ने ब्रह्मांड में लापता द्रव्य या मेटर 'बारयोनिक' के एक हिस्से का पता लगने का दावा किया है। उनका कहना है कि इससे भविष्य में उसका विकास समझने में मदद मिलेगी।


दस साल पहले वैज्ञानिकों ने भविष्यवाणी की थी कि आकाशगंगाओं के बीच अंतरिक्ष में छितरे कम घनत्व वाले गैस के रूप में मौजूदा एटम से निर्मित सामान्य द्रव्य का करीब आधा भाग लापता है। कई बार इसका पता लगाने की कोशिश की गई, लेकिन कुछ हाथ नहीं लगा।

अब एक अंतरराष्ट्रीय दल ने यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी की परिक्रमारत वैधशाला की मदद से उसके सबसे गर्म हिस्से का पता लगने का दावा किया है। यह हिस्सा तब नजर आया, जब आकांशगंगाओं के दो समूहों एबैल 222 तथा एबैल 223 का अध्ययन हो रहा था। दोनों धरती से 2300 प्रकाश वर्ष की दूरी पर हैं। उसके स्पेक्ट्रा और चित्रों के अध्ययन बताता है कि दोनों एक गर्म गैस की पट्टी से जुड़े हैं।

दल के नेता एसआरओएन नीदरलैंड इंस्टीट्यूट फॉर स्पेस रिसर्च के नारबर्ट वेरनर का कहना है इस सेतु अथवा फिलामेंट से जिस गर्म गैस का पता लगा, वह संभवतः अंतरिक्ष में डिफ्यूज गैस का सबसे गर्म और घना हिस्सा है और हम समझते हैं कि वह ब्रह्मांड में बारयोनिक मेटर का करीब आधा हिस्सा है।


उन्होंने कहा यह तो अभी शुरुआत है। मेटर का वितरण समझने के लिए हमें इसकी तरह अन्य प्रणालियों का अध्ययन करना पड़ेगा।
दल के सदस्य एलेक्सिस फिनोगेनोव के मुताबिक लापता बारयोन्स के सबसे गर्म हिस्से का पता लगाना महत्वपूर्ण है। क्योंकि कई मॉडल मौजूद हैं और वे सभी बताते हैं कि लापता बारयोन्स गर्म गैस का कोई न कोई रूप है।

यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के एक्सएमएम न्यूटन परियोजना के नारबर्ट शेरटल ने कहा अब हम जानते हैं कि कहाँ देखना है। मुझे भविष्य में अंतरिक्ष में इस तरह के अत्यधिक उत्साहवर्द्धक क्षेत्रों के अध्ययन की उम्मीद है।



और भी पढ़ें :