होली कविता : रंग देना मुझको आज...

FILE


प्यार की चोली में
मन की एक खोली में
रंग जाएंगे मिलकर हम

रंगों की आज होली में
तुम रंग देना मुझको,
मेरा हृदय भी रंग जाए
कल तक जो शिकवे थे
वो पानी में घुल जाए।

मेरा मन जो एक सफेदा
रंग से उसे सजा देना
किस्मत की रेखा मिट जाए
ऐसा रंग लगा देना।

तेरे लिए ये आज प्रण है
तुझको मैं न टोकूंगा,
तू चाहे जितना रंग दे
मैं आज तुझे ने टोकूंगा।

रंगना है मुझको आज
रंगने में जो अर्पण है
मेरे प्रियतम तुझको मेरा
सबकुछ आज समर्पण है।
- अक्षय नेम



और भी पढ़ें :