क़दमों की आहट

NDND
क़दमों की आहट

अब भी हैं

क़दमों के निशाँ

चाँग भखार की

में

पाँवों में पड़े

छालों के निशाँ

जोहन-जोखन के मुर्झाए चेहरों पर

हँसी लौटाकर

भूल गया हूँ छालों की जलन

अब गाँव पहचानने लगे हैं

मेरे क़दमों की आहट।

WD|
साभार :



और भी पढ़ें :