होली के चटपटिया जोक्स : मेहबूबा मेहबूबा

WD|
FILE


योगा स्वामी दामदेव को गाने गाने का बेहद शौक था।


चाहे जब अल्हड़-फक्खड़ होकर बेसुरी आवाज में गाने लगते।


होली की तरंग में, कुछ-कुछ रंग में और कुछ-कुछ भंग में चले जा रहे थे गाते हुए -'मेहबूबा मेहबूबा ..... '


छपाक!!! एक नाले में गिर गए...
अब उनकी कांपती आवाज आ रही थी....मैं डूबा, मैं डूबा....



और भी पढ़ें :